Posts

Showing posts from December 2, 2019

एक यात्रा ऐसी भी

Image
डा. वीरेंद्र पुष्पक                                       मैं पत्रकार हूं, एक स्टोरी की कबरेज के लिए देहरादून आया हुआ था। पुराना मित्र मिल गया। बहुत दिनों के बाद मिला था। घूमने के लिए ऋषिकेश आ गए। गंगा के किनारे बैठे थे। आतंकवाद पर बात होने लगी। उसने एक कहानी सुनाई अपनी कश्मीर, विशेष रूप से अनन्तनाग की यात्रा के सम्बन्ध में। मैं अपने मित्र का नाम जानबूझ कर नहीं लिख रहा हूँ।           उसने कहना शुरू किया कि बात शायद 2014 की है। हमारे यहां से एक बस 10 दिन के टूर पर बाबा बर्फानी अमरनाथ यात्रा पर जा रही है। मेरी पत्नी का निधन हुआ था। मैं उन दिनों डिस्टर्ब सा था। मेरी बेटी ने स्थान परिवर्तन से मेरे मानसिक दबाब को कम करने के लिए अमरनाथ यात्रा का कार्यक्रम बना लिया। मेडिकल, रजिस्ट्रेशन आदि की कबायत पूरी की, जाने की तैयारी करने लगे। कुल मिला कर निश्चित समय पर हम अमरनाथ यात्रा के लिए निकल पड़े।           कश्मीर की सुंदर वादियों का नजारा देखने का मौका मिला। वास्तव में मन कुछ हल्का हुआ। हमारा टूर पहलगांव से चंदनबाड़ी, पिस्सू टॉप होता हुआ शेषनाग तक पहुंच गया। रात्रि में यहां विश्राम करना था।

सरकारी नौकरी

https://www.jobsarkari.com/sarkari-naukri/

कविताएँ

Image
मुहम्‍मद अली जौहर   काम करना है यही ख़ाक जीना है अगर मौत से डरना है यही हवसे-ज़ीस्‍त हो इस दर्जा तो मरना है यही क़ुलज़ुमे-इश्‍क़ में हैं नफ़ा-ओ-सलामत दोनों इसमें छूबे भी तो क्‍या पार उतरना है यही और किस वज़आ की जोया हैं उरुसाने-बिहिश्‍त है कफ़न सुर्ख़, शहीदों का संवरना है यही हद है पस्‍ती की कि पस्‍ती को बलन्‍दी जाना अब भी एहसास हो इसका तो उभरना है यही हो न मायूस कि है फ़तह की तक़रीबे-शिकस्‍त क़ल्‍बे-मोमिन का मिरी जान निखरना है यही नक़्दे-जां नज़्र करो सोचते क्‍यों हो 'जौहर' काम करने का यही है, तुम्‍हें करना है यही चश्‍मे-ख़ूंनाबा बार सीना हमारा फ़िगार देखिये कब तक रहे चश्‍म यह ख़ूंनाबा बार देखिये कब तक रहे हक़ की क़मक एक दिन आ ही रहेगी वले गर्द में पिन्‍हा सवार देखिये कब तक रहे यूं तो है हर सू अयां आमदे-फ़स्‍ले-ख़िज़ा जौर-ओ-जफ़ा की बहार देखिये कब तक रहे रौनके-देहली पे रश्‍क था कभी जन्‍नत को भी यूं ही यह उजड़ा दयार देखिये कब तक रहे ज़ोर का पहले ही दिन नश्‍शा हरन हो गया ज़ोम का बाक़ी ख़ुमार देखिये कब तक रहे आशियां बरबाद हैं यह अनदाज ज़माने के और ही ढ़ग हैं सताने के घर छुट

माँ, कह एक कहानी

Image
मैथिलीशरण गुप्त   'माँ, कह एक कहानी!' 'बेटा, समझ लिया क्या तूने मुझको अपनी नानी?' 'कहती है मुझसे यह बेटी तू मेरी नानी की बेटी! कह माँ, कह, लेटी ही लेटी राजा था या रानी? माँ, कह एक कहानी!' 'तू है हटी मानधन मेरे सुन, उपवन में बड़े सबेरे, तात भ्रमण करते थे तेरे, यहाँ, सुरभि मनमानी? हाँ, माँ, यही कहानी!' 'वर्ण-वर्ण के फूल खिले थे झलमल कर हिम-बिंदु झिले थे हलके झोंकें हिले-हिले थे लहराता था पानी।' 'लहराता था पानी? हाँ, हाँ, यही कहानी।' 'गाते थे खग कल-कल स्वर से सहसा एक हंस ऊपर से गिरा, बिद्ध होकर खर-शर से हुई पक्ष की हानी।' 'हुई पक्ष की हानी? करुण-भरी कहानी!' 'चौक उन्होंने उसे उठाया नया जन्म-सा उसने पाया। इतने में आखेटक आया लक्ष्य-सिद्धि का मानी? कोमल-कठिन कहानी।' माँगा उसने आहत पक्षी, तेरे तात किंतु थे रक्षी! तब उसने, जो था खगभक्षी - 'हट करने की ठानी? अब बढ़ चली कहानी।' 'हुआ विवाद सदय-निर्दय में उभय आग्रही थे स्वविषय में गयी बात तब न्यायालय में सुनी सभी ने जानी।' 'सुनी सभी ने जानी? व्यापक हु

नया शिवाला

Image
इक़बाल   सच कह दूं ऐ बिरहमन ! गर तू बुरा न माने तेरे सनमकदों[11] के बुत हो गए पुराने अपनों से बैर रखना तूने बुतों से सीखा जंगो-जदल[12] सिखाया वाइज़ [13] को भी खुदा ने तंग आके मैंने आखिर दैरो-हरम को [14] छोड़ा वाइज़ का वाज़ छोड़ा, छोड़े तेरे फ़साने [15] पत्‍थर की मूरतों में समझा है तू खुदा है ख़ाके-वतन का मुझको हर ज़र्रा देवता है आ ग़ैरियत[16] के पर्दे इक बार फिर उठा दें बिछड़ों को फिर मिला दें, नक़्शे-दुई [17] मिटा दें सूनी पड़ी हुई है मुद्दत से दिल की बस्‍ती आ इक नया शिवाला इस देस में बना दें दुनिया से तीरथों से ऊँचा हो अपना तीरथ दामाने-आस्‍मां[18] से इसका कलश मिला दें हर सुबह उठके गायें मंतर[19] वो मीठे-मीठे। सारे पु‍जारियों को मय[20] पीत की पिला दें।। शक्ति भी शान्ति भी भक्ति के गीत में है। धरती के बासियों की मुक्ति परीत [21] में है।। [11] बुतख़ाना (मन्दिर) [12] युद्ध [13] इस्‍लामी उपदेशक [14] मन्दिर तथा काबे की चारदीवारी को [15] क‍हानियां [16] वैर-भाव [17] दुई के चिह्न [18] आकाश का दामन (आकाश) [19] मन्‍त्र [20] मदिरा [21] प्रीत   साभार https://www.hindisamay.

क्या करते

Image
माहेश्वर तिवारी   आग लपेटे जंगल-जंगल हिरन कुलाँच रहे हैं क्या करते बेबस बर्बर गाथाएँ बाँच रहे हैं सहमे-सहमे वृक्ष-लताएँ पागल जब से हुईं हवाएँ अपना होना बड़े गौर से खुद ही जाँच रहे हैं डरे-डरे हैं राजा-रानी पन्ने-पन्ने छपी कहानी स्नानघरों से शयनकक्ष तक बिखरे काँच रहे हैं

जीवनी

चरनदास : डॉ. त्रिलोकी नारायण दीक्षित द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Charandas : by Dr. Triloki Narayan Dixit Hindi PDF Book – Biography (Jeevani) http://db.44books.com/2019/11/%e0%a4%9a%e0%a4%b0%e0%a4%a8%e0%a4%a6%e0%a4%be%e0%a4%b8-%e0%a4%a1%e0%a5%89-%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%b2%e0%a5%8b%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%af.html

शारदे ,मेरे शब्दों को प्रवाह दो

Image
  डॉ साधना गुप्ता   शारदे ,मेरे शब्दों को प्रवाह दो सोयी मानवता को जगाने को, पश्चिमी विपरीत बयार से  संस्कृति को बचाने को मेरे शब्दों को धार दो, शक्ति दो,करूणा की पुकार दो- मचा सके जो आतताइयों में हाहाकार नारी की अस्मिता रक्षार्थ अग्रजों के सम्मानार्थ अनुजों के स्नेहार्थ, मेरे शब्दों को ज्ञान दो- कर सके जो सत-असत का भान अपने पराए की पहचान जीवन लक्ष्य प्रति सावधान, मेरे शब्दों को दो सँवार- दे सके जो बच्चों को संस्कार युवाओं को परिवार बुजुर्गों को प्यार शारदे, मेरे शब्दों को प्रवाह दो।                    मंगलपुरा, टेक, झालवाड़ 326001 राजस्थान

ढलती उम्र का प्रेम

Image
अर्चना राज   ढलती उम्र का प्रेम कभी बहुत गाढ़ा  कभी सेब के रस जैसा, कभी बुरांश  कभी वोगेनविलिया के फूलों जैसा, कभी जड़-तने तो कभी पोखर की मछलियों जैसा, ढलती उम्र में भी होता है प्रेम !!   क़तरा-क़तरा दर्द से साभार 

बोल ! अरी, ओ धरती बोल !

Image
असरारुल हक़ मजाज़   बोल ! अरी, ओ धरती बोल ! राज सिंहासन डाँवाडोल! बादल, बिजली, रैन अंधियारी, दुख की मारी परजा सारी बूढ़े, बच्चे सब दुखिया हैं, दुखिया नर हैं, दुखिया नारी बस्ती-बस्ती लूट मची है, सब बनिये हैं सब व्यापारी बोल ! अरी, ओ धरती बोल ! ! राज सिंहासन डाँवाडोल! कलजुग में जग के रखवाले चांदी वाले सोने वाले देसी हों या परदेसी हों, नीले पीले गोरे काले मक्खी भुनगे भिन-भिन करते ढूंढे हैं मकड़ी के जाले बोल ! अरी, ओ धरती बोल ! राज सिंहासन डाँवाडोल! क्या अफरंगी, क्या तातारी, आँख बची और बरछी मारी कब तक जनता की बेचैनी, कब तक जनता की बेज़ारी कब तक सरमाए के धंधे, कब तक यह सरमायादारी बोल ! अरी, ओ धरती बोल ! राज सिंहासन डाँवाडोल! नामी और मशहूर नहीं हम, लेकिन क्या मज़दूर नहीं हम धोखा और मज़दूरों को दें, ऐसे तो मजबूर नहीं हम मंज़िल अपने पाँव के नीचे, मंज़िल से अब दूर नहीं हम बोल ! अरी, ओ धरती बोल ! राज सिंहासन डाँवाडोल! बोल कि तेरी खिदमत की है, बोल कि तेरा काम किया है बोल कि तेरे फल खाये हैं, बोल कि तेरा दूध पिया है बोल कि हमने हश्र उठाया, बोल कि हमसे हश्र उठा है बोल कि हमसे जागी दुनिय

साल मुबारक

Image
अमृता प्रीतम   जैसे सोच की कंघी में से एक दंदा टूट गया जैसे समझ के कुर्ते का एक चीथड़ा उड़ गया जैसे आस्था की आँखों में एक तिनका चुभ गया नींद ने जैसे अपने हाथों में सपने का जलता कोयला पकड़ लिया नया साल कुछ ऐसे आया... जैसे दिल के फिकरे से एक अक्षर बुझ गया जैसे विश्वास के कागज पर सियाही गिर गयी जैसे समय के होंठों से एक गहरी साँस निकल गयी और आदमजात की आँखों में जैसे एक आँसू भर आया नया साल कुछ ऐसे आया... जैसे इश्क की जबान पर एक छाला उठ आया सभ्यता की बाँहों में से एक चूड़ी टूट गयी इतिहास की अँगूठी में से एक नीलम गिर गया और जैसे धरती ने आसमान का एक बड़ा उदास-सा खत पढ़ा नया साल कुछ ऐसे आया...

ओ देस से आने वाले बता!

Image
अख्तर शीरानी   ओ देस से आने वाले बता! क्‍या अब भी वहां के बाग़ों में मस्‍ताना हवाएँ आती हैं? क्‍या अब भी वहां के परबत पर घनघोर घटाएँ छाती हैं? क्‍या अब भी वहां की बरखाएँ वैसे ही दिलों को भाती हैं?   ओ देस से आने वाले बता! क्‍या अब भी वतन में वैसे ही सरमस्‍त नज़ारे होते हैं? क्‍या अब भी सुहानी रातों को वो चाँद-सितारे होते हैं? हम खेल जो खेला करते थे अब भी वो सारे होते हैं? ओ देस से आने वाले बता! शादाबो-शिगुफ़्ता1 फूलों से मा' मूर2 हैं गुलज़ार3 अब कि नहीं? बाज़ार में मालन लाती है फूलों के गुँधे हार अब कि नहीं? और शौक से टूटे पड़ते है नौउम्र खरीदार अब कि नहीं?   ओ देस से आने वाले बता! क्‍या शाम पड़े गलियों में वही दिलचस्‍प अंधेरा होता हैं? और सड़कों की धुँधली शम्‍मओं पर सायों का बसेरा होता हैं? बाग़ों की घनेरी शाखों पर जिस तरह सवेरा होता हैं?   ओ देस से आने वाले बता! क्‍या अब भी वहां वैसी ही जवां और मदभरी रातें होती हैं? क्‍या रात भर अब भी गीतों की और प्‍यार की बाते होती हैं? वो हुस्‍न के जादू चलते हैं वो इश्‍क़ की घातें होती हैं? 1 प्रफुल्‍ल स्‍फुटित 2 परिपूर

ख़ाके-हिन्द

Image
बृज नारायण चकबस्त   अगली-सी ताज़गी है फूलों में और फलों में करते हैं रक़्स अब तक ताऊस जंगलों में अब तक वही कड़क है बिजली की बादलों में पस्ती-सी आ गई है पर दिल के हौसलों में गुल शमअ-ए-अंजुमन है,गो अंजुमन वही है हुब्बे-वतन नहीं है, ख़ाके-वतन वही है बरसों से हो रहा है बरहम समाँ हमारा दुनिया से मिट रहा है नामो-निशाँ हमारा कुछ कम नहीं अज़ल से ख़्वाबे-गराँ हमारा इक लाशे -बे-क़फ़न है हिन्दोस्ताँ हमारा इल्मो-कमाल-ओ-ईमाँ बरबाद हो रहे हैं ऐशो-तरब के बन्दे ग़फ़लत, में सो रहे हैं ऐ सूरे-हुब्बे-क़ौमी ! इस ख़्वाब को जगा दे भूला हुआ फ़साना कानों को फिर सुना दे मुर्दा तबीयतों की अफ़सुर्दगी मिटा दे उठते हुए शरारे इस राख से दिखा दे हुब्बे-वतन समाए आँखों में नूर होकर सर में ख़ुमार हो कर, दिल में सुरूर हो कर है जू-ए-शीर हमको नूरे-सहर वतन का आँखों को रौशनी है जल्वा इस अंजुमन का है रश्क़े- महर ज़र्र: इस मंज़िले -कुहन का तुलता है बर्गे-गुल से काँटा भी इस चमन का ग़र्दो-ग़ुबार याँ का ख़िलअत है अपने तन को मरकर भी चाहते हैं ख़ाके-वतन क़फ़न को

क्या कहें उनसे बुतों में हमने क्या देखा नहीं

Image
बहादुर शाह ज़फ़र   क्या कहें उनसे बुतों में हमने क्या देखा नहीं जो यह कहते हैं सुना है, पर ख़ुदा देखा नहीं ख़ौफ़ है रोज़े-क़यामत का तुझे इस वास्ते तूने ऐ ज़ाहिद! कभी दिन हिज्र का देखा नहीं तू जो करता है मलामत देखकर मेरा ये हाल क्या करूँ मैं तूने उसको नासिहा देखा नहीं हम नहीं वाक़िफ़ कहाँ मसज़िद किधर है बुतकदा हमने इस घर के सिवा घर दूसरा देखा नहीं चश्म पोशी दाद-ओ-दानिस्तख: की है ऐ ज़फ़र वरना उसने अपने दर पर तुमको क्या देखा नहीं

तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं

Image
फ़ैज़ अहमद फ़ैज़   तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं   तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं हदीसे-यार के उनवाँ निखरने लगते हैं तो हर हरीम में गेसू सँवरने लगते हैं हर अजनबी हमें महरम दिखाई देता है जो अब भी तेरी गली से गुज़रने लगते हैं सबा से करते हैं ग़ुर्बत-नसीब ज़िक्रे-वतन तो चश्मे-सुबह में आँसू उभरने लगते हैं वो जब भी करते हैं इस नुत्क़ो-लब की बख़ियागरी फ़ज़ा में और भी नग़्में बिखरने लगते हैं दरे-क़फ़स पे अँधेरे की मुहर लगती है तो 'फ़ैज़' दिल में सितारे उतरने लगते हैं