Posts

Showing posts from May 3, 2022

पीड़ा के कवि रामावतार त्यागी

Image
अमन कुमार त्यागी रामावतार त्यागी पर जितना जानने का प्रयास किया जाए उतना कम ही है। उनका एक प्रसिद्ध गीत है - एक हसरत थी कि आंचल का मुझे प्यार मिले। मैंने मंज़िल को तलाशा मुझे बाज़ार मिले।। ज़िंदगी और बता तेरा इरादा क्या है? तेरे दामन में बता मौत से ज़्यादा क्या है? ज़िंदगी और बता तेरा इरादा क्या है? इस गीत को बचपन से सुनता आ रहा हूं। कितनी ही बार इस गीत को सुनो मन ही नहीं भरता है। वेदना का यह गीत घोर निराशा से आशा की ओर ले जाता है। काल की बात करें तो यह वह समय था जब सिनेमा में निराशा भरे जीवन में साहस का संचार करने वाले कई गीत लिखे गए थे, जिन्होंने दर्शकों और श्रोताओं में नया उत्साह उत्पन्न किया। फ़िल्म ‘ज़िंदगी और तूफ़ान’ (1975) के इस गीत में विशेष बात यह रही कि इसमें कवि रामावतार त्यागी ने जीवन की उस सच्चाई का प्रदर्शन किया है, जिसे स्वीकारने से तत्कालीन समाज डरता रहा। यह विशेष प्रकार का और निडर प्रयोग था। उन्होंने समाज के तथाकथित सभ्य समाज की आंखों में आंखें डाल कर बात की। अवैध संतान पैदा करने वालों और फिर उस संतान को सभ्य समाज द्वारा ठोकरे मारने वालों को कटघरे में खड़ा कर दि