Monday, November 11, 2019

संत बाबा मौनी: इक पनछान 


डाॅ. प्रीति रचना



 डुग्गर दे जम्मू सूबे दी धरती रिशियें-मुनियें, पीर-पगंबरे दी धरती ऐ। इस धरती पर केईं मंदर ते देव-स्थान होने करी इस्सी मंदरें दा शैह्र गलाया गेदा ऐ। जम्मू लाके च बाह्वे आह्ली माता दा मंदर, रणवीरेश्वर मंदर, रघुनाथ मंदर, आप-शम्भू मंदर, पीरखोह् मंदर, सुकराला माता बगैरा दे मंदर ते केईं सिद्धपुरशे दियां समाधियां बी हैन। उं'दे चा गै इक समाधी बावा मौनी जी हुंदी बी ऐ, जेह्ड़ी जम्मू जिले दी अखनूर तसील दे बकोर ग्रांऽ च ऐ। एह् ग्रांऽ जम्मू थमां 50 कि॰.मी॰. दूर चनाब दरेआ दे कंडै बस्से दा ऐ। इस दरेआ करी ग्रांऽ हुन चैथी बारी नमें सिरेआ बस्सेआ ऐ। 
 इस ग्रांऽ च इक राधा-कृष्ण दा मंदर बड़ा गै प्राचीन ऐ, जेह्दा निर्माण बावा मौनी होरें करोआया हा। बावा मौनी पैह्ले कश्मीर च 'रैनाबाडी' नांऽ दी जगह् रांैह्दे हे। ओह् शुरू थमां गै अध्यात्मिक प्रवृत्ति आह्ले हे। इक दंत कथा मताबक ओह् सन् 1650 दे कोल-कच्छ घरा निकली गे ते चलदे-चलदे अखनूर तसीलै दे पं´ग्रांईं नांऽ दे ग्रांऽ च आई गे हे। उत्थै उ'नें शैल घना जंगल दिक्खियै अपनी समाधी लाई लेई ही। किश ब'रें उत्थें तप ते प्रभु भजन करदे रे। अग्गें-पिच्छंे दे लोक उ'नेंगी खाने आस्तै रस्त देई जंदे ते ओह् आपूं मन्न पकाइयै खाई लैंदे हे। इक रोज मते सारे लोक कट्ठे होइयै उं'दे कोल गे ते आखन लगे- म्हाराज! तुस इत्थें बस्ती थमां दूर घने जंगलै च की रौंह्दे ओ? अस चाह्न्ने आं जे तुस बस्ती दे कोल इक थांह् बेई जाओ ते भगती करो। बावा मौनी होरें परते च उ'नेंगी लिखियै अपने मनै दी गल्ल दस्सी जे ओह् तां जान गे जेकर उत्थें राधा-कृष्ण दे मंदर दा निर्माण होऐ। लोक मन्नी गे ते उ'ने उं'दे कन्नै मिलियै राधा-कृष्ण मंदर बनोआया, जेह्ड़ा अज्ज बी मौजूद ऐ। मंदरै दे कोल गै बावा-मौनी हुंदी समाधी बी बनी दी ऐ। इत्थें हर साल भंडारा होंदा ऐ, लोक शरदा कन्नै मत्था टेकदे ते बावा मौनी थमां शीर्बाद लैंदे न। अज्ज उस मंदर दे पुजारी 'महन्त बिल्लो राम' होर न। 
 पं´ग्र्राइं च मंदर बनोआने दे बाद बावा मौनी जी म्हाराज ल्हौर चली गे। थोड़े चिर उत्थें रेह् ते महाराजा औरंगजेब दे शासनकाल (1658-1707) च, धर्म-परिवर्तन दे दौर च ओह् बकोर ग्रांऽ आई गे। बकोर, चनाब दरेआ दे कंडै बड़ा प्राचीन बडै दा रुक्ख हा, जेह्दे कन्नै उ'नें अपनी झोली ढंगी ही, ते इस रुक्खै हेठ गै तप करने गी बेही गे हे। बावा होर जल-समाधी बी लैंदे हे। छे-छे मम्हीने रोज पानी च बेइयै किश चिर तप करदे हे। ओह् इक सिद्ध-पुरख हे, उ'नें बड़ियां सिद्धियां कीती दियां हियां। उस बड़ै हेठ तप करदे-करदे र्केइं ब'रे गुजरी गे। इस दौरान साधुयें दियां केईं जमातां उं'दे दर्शन करने गित्तै आइयां हियां। 
 इक रोज उ'नें किश साधुयें गी शारे कन्नै इक थांऽ मिट्टी पुट्टी-पुट्टियै दुए थाह्र सुट्टने दा शारा कीता। उ'नें साधुयें मिट्टी दा बडा बड्डा टिब्बा-जन बनाई दित्ता ते फ्ही उस्सै टिब्बे उप्पर बावा मौनी हौरें राधा-कृष्ण मंदर दा निर्माण करोआया। मंदरै दे अग्गै दरेआ ते पिच्छे बडी बड्डी खाई ही। उस खाई दे कंढै हा बडै दा बड़ा पराना रुक्ख। इक बारी किश साधुयें दी जमात बावा मौनी कोला आई ते आखन लगी जे अस सारे दुद्ध पीगे ते फ्ही लौंगे दी धूनी तपगे। 
 बावा होरें अपने चेलें गी अपनी गड़बी दुद्धै दी भरियै दित्ती ते शारे कन्नै समझाया जे जाओ सारे साधुयें गी पलेआई आओ। सारें साधुयें दुद्ध पीता पर गड़बी फ्ही बी खाल्ली नेईं होई। ओह्दे परैंत्त बावा होरें चेलें गी समझाया जे गमें आस्तै लाए दे पोआऽ दे पोआड़े गी पुट्टो। चेलें उ'आं गै कीता तां पोआड़ा पुट्टदे गै ओह् सब्भै र्हान होई गे। की जे पोआड़े च पोआऽ दे थाह्र लौंग गै लौंग होई गेदे हे। साधुयें लौंगे दी धूनी तप्पी ते बड़े खुश होए। 
 बावा मौनी होर म्हेशां अपनी शक्ति कन्नै, करामात कन्नै लोकें गी चमत्कार दस्सदे रौंह्दे हे। 
 इक बारी इक महात्मा उं'दे कोल आए ते आखन लगे- ''चलो बावा जी छिंज दिक्खन चलचै।'' छिंज बटालै ही, जेह्ड़ा के अज्जकल पाकिस्तान च आई गेदा ऐ। म्हात्मा होर घोडी पर बैठे दे हे ते बावा मौनी होर कंधै उप्पर। तां बावा होरंे कंधै गी अड्डी लाई ते कंध गै चली पेई। महात्मा होर उं'दा ओह् चमत्कार दिक्खियै उं'दे पैरें ढेई पे। 
 बावा मौनी हुंदे आसेआ बनोआए गेदे राधा-कृष्ण मंदरे च इक बारी किश चोर चोरी करने गी आए पर अंदर बड़दे गै ओह् अन्ने होई गे ते सवेरे तगर अंदर गै टक्करां खंदे रेह्। ओह् नां गै चोरी करी सके ते नां गै नस्सी सके। लोऽ लग्गने पर उ'नें बावा मौनी दे पैरें मत्था टेकेआ ते अग्गूं आस्तै चोरी नेईं करने दी कसम खाद्धी। बावा होरें उ'नेंगी माफ करी दित्ता। बावा होरें समाई जाने परैंत्त बी केईं चमत्कार दस्से। उं'दे बाद महन्त गंगा राम होए जि'नें मंदरै दी दिक्ख-रिक्ख ते पूजा कीती। उं'दे बाद महन्त राम जी दास होरें कीती ते अज्जकल महन्त केशवदास होर न, जेह्ड़े मंदर ते बावा हुंदी समाधी दी दिक्ख-रिक्ख ते पूजा करदे न। बावा मौनी हुंदे आसेआ बनोआए दा राधा-कृष्ण मंदर ते बावा हुंदी समाधी सन् 1978 च बरसांती दे मौसमै च दरेआ हाड़ औने करी जल-प्रवाह् होई गे हे की जे दरेआ हाड़ हा ते मंदरै गी ढाह् लग्गी दी ही। समाधी बी दरेआ दे कंढे उप्पर आई गेदी ही। 100 फुट्ट हेठ दरेआ ठाठां मारा करदा हा ते दंद्धे ढेई जा करदे हे। महन्त राम जी दास हुंदे पुत्तर श्री विधा सागर होरें समाधी अंदर जाने दी हिम्मत रखी ते मंदरै चा राधा-कृष्ण दियां मूर्तियां ते समाधी अंदरा बावा मौनी हुंदी उंगली दी अस्थि (हड्डी) आह्ली गड़बी पुट्टी आह्नने दी ध्याई लेई। ओह् घाबरी गेदे हे जे कुतै समाधी समेत गै दरेआ च नेईं पेई जान। पर, फ्ही बी हिम्मत रक्खियै समाधी अंदर गें। समाधी अंदर जंदे गै जिसलै उ'नेंगी लाल रंगै दा नाग दर्शन देइयै छपन होई गेआ तां ओह् समझी गे जे बावा मौनी होर उं'दे कन्नै गै न ते उ'नेंगी समाधी पुट्टने दा शारा देआ दे न। नागै दे छपन होंदे गै विधा सागर हुंदी हिम्मत दूनी बधी गेई। उ'नें बावा मौनी हुंदी उंगली दी हड्डी आह्ली गड़बी, जेह्ड़ी के फर्शै च दब्बी दी ही पुट्टी लेई। समाधी दे बाह्र खड़ोते दे ग्रांऽ दे लोकें दे साह् सुक्कै दे हे। ओह् सोचा दे हे जे विधा सागर होर पता नेईं वापस औंदे न जां नेईं। पर, जिस बेल्लै विधा सागर होर गड़बी समेत बाह्र निकली आए तां सारे लोक खुशी कन्नै बावा मौनी दे नांऽ दे जैकारे लान लग्गी पे ते उं'दे दिक्खदे-दिक्खदे गै समाध दरेआ च ढेई पेई। 
 राधा-कृष्ण मंदर फ्ही पैह्ले मंदरै शा 300 मीटर दी दूरी उप्पर आर्मी आह्ले बनोआया ते कन्नै गै बावा हुंदी समाधी बी बनाई गेई, जित्थें लोक जंदे, मुरादां मंगदे ते बावा होर उं'दी हर मनोकामना पूरी करदे। पर, ओह् मंदर ते समाधी बी सन् 2014 च बरसांती चनाब दरेआ च जल-प्रवाह् होई गे। ओह् मंदर ते समाधी जल-प्रवाह बशक्क सन् 2014 च होए पर मंदरै दे अंदर दियां मूर्तियां ते समाधी आह्ली गड़बी सन् 1992 च गै महन्त केशवदास होरें पुट्टियै इक स्कूलै दे कमरे च रखी दित्ते हे। की जे दरेआ च हाड़ औने करी फ्ही ढाह् लग्गी गेदी ही ते महन्त केशवदास होरें गी बी समाधी कोल नागै दे दर्शन होए हे। ओह् बी समझी गे हे जे समाधी हुन जल-प्रवाह् होई जानी ऐ। किश गै दिने च समाध दरेहा च पेई गेई ते राधा-कृष्ण मंदर इं'यां कंढे पर आई गेआ जे ओह्दे अंदर जान नेईं हा होंदा की जे मंदरै दे अग्गे दी सारी जगाह् दरेआ च पेई गेदी ही। दरेआ दे कंढे पर खड़ोते दा मंदर सन् 2014 च दरेआ च पेई गेआ ते कन्नै गै ओह् प्राचीन बड़ बी। 
 जदूं महन्त केशव दास होरें मंदरै दियां मूर्तियां चुक्कियै स्कूलै च रक्खियां ओह्दे द'ऊं ब'रें मगरा सन् 1994 च गै उ'नें इस मंदरै दा निर्माण चनाब दरेआ शा लगभग 500 मीटर दी दूरी पर करोआया हा ते मंदरै दे कन्नै-कन्नै बावा मौनी दी समाधी बी बनोआई। 
 ग्र्रांऽ बकोर दे लोक अज्ज बी अपनी मनोकामना दी पूर्ति आस्तै बावा मौनी दी समाधी परप जाइयै बड़ी शरदा-भगती कन्नै उ'नंेगी चेत्ता करियै मन्नत मंगदे न जे जेकर साढ़ी मनोकामना पूरी होग तां अस चादर, प्रसाद, भेंट चाढ़गे। अपनी मुराद पूरी होने पर ओह् चादर ते प्रसाद लेइयै खुशी-खुशी उं'दी समाधी पर जंदे ते मंदरै दे महन्त केशवदाास होरें गी दिंदे न, जेह्ड़े समाधी अंदर जाइयै बावा मौनी गी चादर ते प्रसाद चाढ़दे न। इस ग्रांऽ दे लोक बावा मौनी हुंदा नांऽ बड़े आदरमानै कन्नै लैंदे न। बावा हुंदे च उं'दी बड़ी आस्था-विश्वास ऐ। 


सूचक:- 


1. महन्त बिल्लोराम, ग्रांऽ पं´गं्र्राइं, उमर-75 साल
2. महन्त केशवदास, ग्रांऽ बकोर, उमर-48 साल
3. श्रीमती लज्या रानी, ग्रांऽ बकोर, उमर-75 साल
4. श्री गणेश दास, ग्रांऽ बकोर, उमर-70 साल
5. श्री बंसी लाल, ग्रांऽ बकोर, उमर-65 साल
6. श्री कृष्ण लाल, ग्रांऽ बकोर, उमर-64 साल


 


No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारतीय परिदृष्य में मीडिया में नारी चित्रण / डाॅ0 गीता वर्मा

  डाॅ0 गीता वर्मा एसोसिऐट प्रोफेसर, संस्कृत विभाग, बरेली कालेज, बरेली।    “नारी तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत नग पग तल में। पीयूशस्त्रोत ...