Posts

Showing posts from November 26, 2019

मादरे-हिन्‍द से

Image
नज़ीर बनारसी   क्‍यों न हो नाज़ ख़ाकसारी पर तेरे क़दमों की धूल हैं हम लोग आज आये हैं तेरे चरणों में तू जो छू दे तो फूल हैं हम लोग देश भगती भी हम पे नाज़ करे हम को आज ऐसी देश भगती दे तेरी जानिब है दुश्‍मनों की नज़र अपने बेटों को अपनी शक्‍ती दे मां हमें रण में सुर्ख़रू रखना अपने बेटों की आबरू रखना तूने हम सब की लाज रख ली है देशमाता तुझे हज़ारों सलाम चाहिये हमको तेरा आशीर्वाद शस्‍त्र उठाते हैं ले‍के तेरा नाम लड़खड़ायें अगर हमारे क़दम रण में आकर संभालना माता बिजलियां दुश्‍मनों के दिल पे गिरें इस तरह से उछालना माता मां हमें रण में सुर्ख़रू रखना अपने बेटों की आबरू रखना हो गयी बन्‍द आज जिनकी जुबां कल का इतिहास उन्‍हें पुकारेगा जो बहादुर लहू में डूब गये वक़्त उन्‍हें और भी उभारेगा सांस टूटे तो ग़म नहीं माता जंग में दिल न टूटने पाये हाथ कट जायें जब भी हाथों से तेरा दामन न छूटने पाये मां हमें रण में सुर्ख़ रखना अपने बेटें की आबरू रखना  

बहारें होली की

Image
नज़ीर अक़बराबादी जब फागुन रंग झमकते हों तब देख बहारें होली की। और दफ़ के शोर खड़कते हों तब देख बहारें होली की। परियों के रंग दमकते हों तब देख बहारें होली की। ख़म शीश-ए-जाम छलकते हों तब देख बहारें होली की। महबूब नशे में छकते हों तब देख बहारें होली की। हो नाच रंगीली परियों का, बैठे हों गुलरू रंग भरे। कुछ भीगी तानें होली की, कुछ नाज़-ओ-अदा के ढंग भरे। दिल भूले देख बहारों को, और कानों में आहंग भरे। कुछ तबले खड़कें रंग भरे, कुछ ऐश के दम मुंह चंग भरे। कुछ घुंघरू ताल झनकते हों, तब देख बहारें होली की॥ गुलज़ार खिलें हों परियों के और मजलिस की तैयारी हो। कपड़ों पर रंग के छीटों से खुश रंग अजब गुलकारी हो। मुँह लाल, गुलाबी आँखें हों और हाथों में पिचकारी हो। उस रंग भरी पिचकारी को अंगिया पर तक कर मारी हो। सीनों से रंग ढलकते हों तब देख बहारें होली की॥ और एक तरफ़ दिल लेने को, महबूब भवौयों के लड़के। हर आन घड़ी गत भिरते हों, कुछ घट घट के, कुछ बढ़ बढ़ के। कुछ नाज़ जतावें लड़ लड़ के, कुछ होली गावें अड़ अड़ के। कुछ लचकें शोख़ कमर पतली, कुछ हाथ चले, कुछ तन फड़के। कुछ काफ़िर नैन मटकते हों, तब देख बहारें ह

अंतर्राष्ट्रीय संचार व्यवस्था और सूचना राजनीति

अवधेश कुमार यादव साभार http://chauthisatta.blogspot.com/2016/01/blog-post_29.html   प्रजातांत्रिक देशों में सत्ता का संचालन संवैधानिक प्रावधानों के तहत होता है। इन्हीं प्रावधानों के अनुरूप नागरिक आचरण करते हैं तथा संचार माध्यम संदेशों का सम्प्रेषण। संचार माध्यमों पर राष्ट्रों की अस्मिता भी निर्भर है, क्योंकि इनमें दो देशों के बीच मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध को बनाने, बनाये रखने और बिगाड़ने की क्षमता होती है। आधुनिक संचार माध्यम तकनीक आधारित है। इस आधार पर सम्पूर्ण विश्व को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है। पहला- उन्नत संचार तकनीक वाले देश, जो सूचना राजनीति के तहत साम्राज्यवाद के विस्तार में लगे हैं, और दूसरा- अल्पविकसित संचार तकनीक वाले देश, जो अपने सीमित संसाधनों के बल पर सूचना राजनीति और साम्राज्यवाद के विरोधी हैं। उपरोक्त विभाजन के आधार पर कहा जा सकता है कि विश्व वर्तमान समय में भी दो गुटों में विभाजित है। यह बात अलग है कि द्वितीय विश्वयुद्ध के तत्काल बाद का विभाजन राजनीतिक था तथा वर्तमान विभाजन संचार तकनीक पर आधारित है। अंतर्राष्ट्रीय संचार : अंतर्राष्ट्रीय संचार की अवधारणा का सम्

मानव संचार : अवधारणा और विकास

    अवधेश कुमार यादव साभार- http://chauthisatta.blogspot.com/2014/12/blog-post.html           मानव जीवन में जीवान्तता के लिए संचार का होना आवश्यक ही नहीं, अपितु अपरिहार्य है। पृथ्वी पर संचार का उद्भव मानव सभ्यता के साथ माना जाता है। प्रारंभिक युग का मानव अपनी भाव-भंगिमाओं, व्यहारजन्य संकेतों और प्रतीक चिन्हों के माध्यम से संचार करता था, किन्तु आधुनिक युग में सूचना प्रौद्योगिकी (प्दवितउंजपवद ज्मबीदवसवहल)  के क्षेत्र में क्रांतिकारी अनुसंधान के कारण मानव संचार बुलन्दी पर पहुंच गया है। वर्तमान में रेडियो, टेलीविजन, सिनेमा, टेलीफोन, मोबाइल, फैक्स, इंटरनेट, ई-मेल, वेब पोर्टल्स, टेलीप्रिन्टर, टेलेक्स, इंटरकॉम, टेलीटैक्स, टेली-कान्फ्रेंसिंग, केबल, सोशल नेटवर्किंग साइट्स, समाचार पत्र, पत्रिका इत्यादि मानव संचार के अत्याधुनिक और बहुचर्चित माध्यम हैं।      संचार : संचार शब्द का सामान्य अर्थ होता है- किसी सूचना या संदेश को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचाना या सम्प्रेषित करना। शाब्दिक अर्थों में श्संचारश् अंग्रेजी भाषा के ब्वउउनदपबंजपवद शब्द का हिन्दी रूपांतरण है। जिसकी उत्पत्ति लैटिन

रघुवीर सहाय से मैं इस तरह करीब आ गया

Image
अनामी शरण बबल http://asbmassindia.blogspot.com/2014/12/blog-post_34.html काफी अर्सा बीत चुका है, रात भी काऱी गहरा गयी है मगर आज रघुवीर सहाय की जन्म तिथि एक माकूल मौका है कि मैं भी उनके साथ गुजारे गए कुछ क्षणों को याद करूं। 1987-88 भारतीय जनसंचार संस्थान  के हिन्दी पत्रकारिता के पहले बैच का हिस्सा मैं भी था। हमलोग को पढाने एक दिनपत्रकारों के पत्रकार रघुवीर सहाय जी आए। क्लास से पहले और बाद में हम सारे छात्रओं को सहायजी ने बडी आत्मीय तरीके से देखा और स्नेह जताया।  क्लास में पत्रकार बनने से पहले आवश्यक टिप्स दिए और खूब पढने और लगातार लिखते रहने का सुझाव दिया। बातचीत में मैं भी जरा बढ चढ़ कर जोश दिखाया होगा , तभी तो उन्होने मेरा नाम और छात्रावास का फोन नंबर भी पूछा। अपने घर से सहाय जी फोन किया और कहा अनामी मैं रघुवीर सहाय बोल रहा हूं। मैं पहले तो अवाक सा रह गया फिर संभलते हुए कहा जी सर बताइए। तब शालीनता के साथ सहाय जी ने कहा नहीं नहीं मैं नंबर चेक कर रहा था कि यह काम कर रहा है या नहीं। मैंने फौरन पलटवार सा किया मैं समझ गया सर कि आप मेरा टेस्ट ले रहे थे कि मैने सही नंबर दिया था या नहीं? इ

प्रेमधाम: आश्रम और उसकी शिक्षा सेवा (प्रेमधाम आश्रम नजीबाबाद के संदर्भ में)

Image
धनीराम कुदरत भी दुनिया में नए-नए करिश्में करती रहती है किसी को दुनिया भर की नियामतों से नवाज़ देती है तो वहीं कुछ को मूलभूत ज़रूरतों से भी महरूम कर देती है। दरअसल कुदरत पर किसी का कोई जोर नहीं है लेकिन कुदरत की इस बेरहमी का शिकार कुछ मासूम और लाचार बच्चों के लिये रोशनी की किरण बना है प्रेमधाम आश्रम। प्रेमधाम आश्रम उन अनाथ या शारीरिक, मानसिक रूप से दिव्यांग बालकों का है, जिनके सगे-संबंधियों या माता-पिता ने इस बेरहम दुनिया में अकेला छोड़ दिया। यहाँ उन दिव्यांगों को अपनों से ज्यादा प्यार मिलता है। शारीरिक व मानसिक रूप से निःशक्त बच्चों की तमाम जिम्मेदारियों को अपने कंधों पर लेकर यहाँ के प्रत्येक सेवक व कर्मचारी इनकी पढ़ाई-लिखाई, सेहत, इलाज आदि कार्य को पूर्ण करते हैं। साथ ही इनको संस्कार भी दिए जा रहे हैं। यहाँ के सेवकों के साथ-साथ दूसरे अन्य सेवक भी सेवा करते हैं, दान देते हैं। इस आश्रम में दूर-दूर से लोग सेवा के लिए आते हैं। प्रेमधाम आश्रम में फादर शीबू व फादर बेनी को देखकर लगता है कि वह दुनिया के सबसे अधिक सौभाग्यशाली व्यक्ति हैं क्योंकि ये दोनों उस कार्य को कर रहे हैं जिसके लिए उन्हें चु