कितना जरूरी है स्मार्ट कक्षा – कक्ष


डॉ. इस्‍पाक अली


डी.लिट वैज्ञानिक अविष्कारों ने मानव जीवन के प्रत्येक पक्ष एवं क्रिया को प्रभावित किया । इससे हमारी शिक्षा भी अछूती नहीं रह सकीशिक्षण एक सतत प्रक्रिया है। एक शिक्षक अपनी शिक्षण प्रक्रिया को प्रभावी बनाने के लिए अनेक प्रकार की तकनीकियों का प्रयोग करता है। परंतु एक शिक्षक में सम्प्रेषण कौशल का होना अति आवश्यक है, जिससे वह अपनी पाठ्य वस्तु को छात्रों को प्रभावपूर्ण ढंग से समझा सके। यदि वह शिक्षण अधिगम प्रक्रिया को और अधिक प्रभावी बनाना चाहता है तो उसको नवीन तकनीकियों को कक्षा में प्रयोग करता होता है और साथ ही साथ शिक्षण को प्रभावी बनाने के लिए आधुनिक शिक्षण अधिगम तक तकनीकियों का उपयोग भी करता होता । शिक्षण प्रक्रिया को प्रभावी बनाने हेतु कुछ महत्वपूर्ण शिक्षण अधिगम तकनीकियों को अपनाना पड़ता हैवर्तमान में इसमें स्मार्ट कक्षा कक्ष (SMART CLASSES) बहुत ही उपयोगी शिक्षण अधिगम तकनीकी के रूप में उभर कर आया हैं।


आज के प्रतियोगितावादी युग में शिक्षा में गुणवत्ता एक मूल आवश्यकता होती जा रही है। आज तकनीकी मानवीय जीवन के सभी पक्षों को प्रभावित कर रहा हैभारत में स्मार्ट कक्षा कक्ष एक आधुनिक शिक्षण विधि के रूप में उभर रही है जो छात्रों को गुणात्मक शिक्षा प्रदान करने में सहयोग प्रदान कर रही है। स्मार्ट कक्षा कक्ष शिक्षण विधि के माध्यम से छात्रों में प्रत्यय निर्माण, प्रत्यय का विस्तावरण, पठन कौशल में सुधार तथा शैक्षिक उपलब्धियों में गुणात्मकता को प्राप्त किया जा सकता है। शिक्षा मैं संप्रेषण के लिए तकनीकी हमारे लिए अधिक उपयोगी सिद्ध हो रही है। प्राचीन समय में छात्र गुरुकुलो में अध्ययन किया करते थे। इन गुरुकुलों में शिक्षकों को गुरुओं द्वारा मुख्यतः – मौखिक ज्ञान प्रदान किया जाता था, परंतु आजकल गुरुकुल शिक्षा प्रणाली को आधुनिक संस्कृति के रूप में परिवर्तित किया जा रहा है


वर्तमान भारत में स्मार्ट कक्षा कक्ष को एक नवीन शिक्षण विधि के रूप में अपनाया जाने लगा हैइस स्मार्ट कक्षा कक्ष में आनुदेशनात्कम सामग्री तथा त्रि-आयाम एनीमेशन मोडयूल (3D Animated Module) का उपयोग किया जाने लगा है। आज सभी अच्छे विद्यालय स्मार्ट कक्षा-कक्ष शिक्षण प्रक्रिया को अपना रहे हैं। आज का छात्र इस नवाचार प्रत्यय तथा अंतः क्रियात्मक अधिगम प्रक्रिया को रुचिपूर्वक अपना रहा हैं और ज्ञान को स्थाई रूप प्रदान करने लगा हैं। डिजिटल कक्षा-कक्ष से न केवल शिक्षा को रुचि पूर्ण बनाया जा रहा है बल्कि यह छात्रों के उपलब्धि स्तर में भी निरंतर प्रगति कर रहा हैं। स्मार्ट कक्षा कक्ष वर्तमान शिक्षा प्रणाली का प्रमुख अंग बनाता जा रहा हैस्मार्ट कक्षा कक्ष से शिक्षण अधिगम प्रक्रिया को अधिक प्रभावशाली बनाया जा रहा है। जिसमें शिक्षक और छात्र अधिक रुचि लेते हैं। आज शिक्षक कक्षा में किसी भी शिक्षण सामग्री के रूप में वास्तविक पदार्थ जैसे शिक्षण सामग्री दिखा सकता हैवह वृहद शिक्षण प्रकरणों को सरलता से कम समय में समझा सकता है। और छात्रों को अधिक स्थाई ज्ञान प्रदान कर सकता है। स्मार्ट कक्षा-कक्ष में सर्वप्रथम 'स्मार्ट' शब्द से अभिप्राय जानना अति आवश्यक हो जाता है। स्मार्ट को अंग्रेजी मे (SMART) लिखा जाता है, जिसमें प्रत्येक अक्षर का अपना एक अर्थ छिपा है जो इस प्रकार है - S = Specified = fallgroo M = Measurable = मापनीय A = Achievable = प्राप्त करने योग्य R = Reliable = विश्वसनीय T = Time restricted = समय पाबंद - स्मार्ट कक्षा-कक्ष एक ऐसी कक्षा है जिसमें एक अनुदेशक विभिन्न प्रकार के तकनीकी यत्रों का उपयोग करके शिक्षण करता है, जिसमें कंप्यूटर तथा उससे संबंधित श्रव्य और दृश्य माध्यमों का उपयोग किया जाता हैस्मार्ट कक्षा में शिक्षक शिक्षण अधिगम प्रक्रिया को प्रभावी बनाने के लिए अनेक तकनीकी यंत्रों जैसे, डी.वी.डी. प्ले बैक, पावर पावरपॉइन्ट प्रेजेनटेशन, डेटा प्रोटेक्टर, कंप्यूटर, ऐपीस्कोप, ऐपिडिया स्कोप, टेलिविजन आदि का उपयोग करता है“A smart classroom is a classroom that has an instructor station equipped with computer and audiovisual equipment, allowing the instructor to teach using a wide variety of media. These include DVD and VHS playback, Power point presentation, and more all displayed through a data projector. Some smart classrooms have a semi-permanent unit in the room called a Smart Console. These Smart Consoles have similar equipment housed inside them as the other smart classrooms.” स्मार्ट कक्षा-कक्ष की संरचना :स्मार्ट कक्षा-कक्ष की संरचना में कुछ महत्वपूर्ण तकनीकी यंत्रों की आवश्यकता होती है, जो इस प्रकार हो सकते – 1) स्मार्ट बोर्ड (Smart Board) 2) ड्राई इरेज़ व्हाइटबोर्ड (Dray Erase White Board), 3) पर्दा (Wall Screen), 4) डिजिटल प्रोजेक्टर (Digital Projector) 5) वी. सी. डी. तथा डी. वी. डी. (VCD&DVD)] 6) वायरलैस माउस तथा पावर पाइंट स्लाइड-शो कंट्रोलर (Wireless Mouse & Powerpoint slideshow controller), 7) चार्ट कंप्यूटर अथवा लैपटॉप कंप्यूटर (Chart Computer and Laptop Computer) 8) डॉक्यूमेंट कैमरा (Document Camera), सामान्यतः स्मार्ट कक्षा-कक्ष में इन तकनीकी यंत्रों का होना आवश्यक है परंतु सामान्यतः कक्षा में केवल स्मार्ट बोर्ड, कंप्यूटर तथा प्रोजेक्टर ही उपलब्ध हो तो भी स्मार्ट कक्षा-कक्ष की अवधारणा को पूर्ण किया जा सकता है। इन उपकरणों के अलावा और भी उपकरण हो सकते हैस्मार्ट बोर्ड (Smart Board) स्मार्ट बोर्ड एक अतंकियात्मक वाइटबोर्ड है जिसका निर्माण Calgary, Alberata-based company SmartTechnologies ने किया हैस्मार्ट बोर्ड एक अंतःक्रियात्मक व्हाइटबोर्ड है, जिससे टच तकनीकी के माध्यम से भी इनपुट दिया जाता है। स्मार्ट बोर्ड पर कक्षा संचालन के लिए एक कंप्यूटर तथा प्रोजेक्टर की अति आवश्यकता होती हैताकि शिक्षक कक्षा के मध्य आवश्यकतानुसार ऑडियो अथवा वीडियो या अन्य शैक्षिक संस्थानों का प्रयोग करके छात्रों को वास्तविक ज्ञान प्रदान कर सके। वैसे तो स्मार्ट बोर्ड अपने आप में भी अनेक विशेषताएं लिए हुए होता है। इस स्मार्ट बोर्ड पर शिक्षक अथवा छात्र अपने हाथ की उंगली से भी लिख सकते हैं तथा मिटा सकते है। फिर भी यह स्मार्ट बोर्ड इतना सॉफ्ट होता है कि यदि किसी भी प्रकार के थोड़ा सख्त पैन का इस बोर्ड पर प्रयोग किया जा सकता है। इस बोर्ड पर छात्र ड्राइंग बना सकते हैं, रेखागणित के अनेक कोण बना सकते हैं, सीधी तथा तिरछी रेखाए आदि खींच सकते हैं स्मार्ट कक्षा कक्ष की विशेषताएं इस प्रकार स्मार्ट कक्षा-कक्ष शिक्षण ज्ञान बांटने, ज्ञान का सूजन करने, ज्ञान प्रदान करने तथा ज्ञान प्राप्त के लिए एक नवाचार है। इसके उपयोग से छात्रों तथा शिक्षकों के कौशलो का सरलता से आकलन किया जा सकता हैस्मार्ट कक्षा-कक्ष की निम्नलिखित विशेषताएं हैं - 1. स्मार्ट कक्षा-कक्ष शिक्षण प्रक्रिया से कक्षा की अवधि कम की जा सकती है , अर्थात इस प्रक्रिया के द्वारा छात्र कम समय में अधिक-से-अधिक पाठ्यवस्तु को गहनता से सीख सकते हैइसमें शिक्षक और छात्र के मध्य अतःक्रिया संभव होती है2. ज्ञान की गहनता के आधार पर यह शिक्षण प्रक्रिया मितव्ययी मानी जाती है। 3. स्मार्ट कक्षा-कक्ष शिक्षण प्रक्रिया से सिखाई गई पाठ्यवस्तु का ज्ञान अधिक समय तक स्थायी होता है। 4. इससे शिक्षक द्वारा प्रदान किए गए लिखित नोट्स को संचित किया जा सकता है5. स्मार्ट कक्षा-कक्ष शिक्षण प्रक्रिया में आवाज को रिकॉर्ड किया जा सकता है जिससे छात्र जब चाहे तब उस रिकॉर्ड आवाज को सुनकर ज्ञान प्राप्त कर सकता है6. स्मार्ट कक्षा-कक्ष शिक्षण प्रक्रिया से शिक्षक छात्रों को विभिन्न प्रकार की वीडियो शिक्षक सामग्री का उपयोग करके शिक्षण कौशलों में विकास कर सकता है। ___7. स्मार्ट कक्षा-कक्ष शिक्षण में शिक्षकों को पाठ्यवस्तु के प्रस्तुतीकरण हेतु विभिन्न प्रकार की तकनीकियों का उपयोग करना होता है, जिससे वह अनेक तकनीकियों के उपयोग को सीख जाता है, उनमें समायोजन करना भी उसे सरलता से आ जाता हैस्मार्ट कक्षा कक्ष की सीमाएं स्मार्ट कक्षा-कक्ष के शिक्षा के क्षेत्र में अनेक लाभ है ,परंतु इसकी कुछ सीमाएं भी है, जैसे - 1. स्मार्ट कक्षा-कक्ष अधिक खर्चीली विधि है, आर्थिक रूप से संपन्न विद्यालय ही इस विधि का उपयोग कर सकते हैं2. जिन विद्यालयों में सरकार द्वारा स्मार्ट कक्षा-कक्ष की व्यवस्था की गई हैविद्यालयों में इस आधुनिक तकनीकी से शिक्षा कराने के लिए योग्य शिक्षक ही नहीं हैऐसी स्थिति में यंत्र मात्र प्रदर्शन का केंद्र बने हुए हैं। ___3. कुछ शहरी विद्यालयों को छोड़कर ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में स्थापित विद्यालयों में स्मार्ट कक्षा-कक्ष के संचालन में बिजली की समस्या एक अभिशाप बनी हुई 4. एक सर्वेक्षण अनुसार यह पाया गया है कि अधिकांश शिक्षक आधुनिक तकनीकी के ज्ञान को प्राप्त करना ही नहीं चाहते बल्कि इस प्रकार के विकास को व्यर्थ ही मानते हैं। 5. अधिकांश विद्यालयों में कंप्यूटर का शिक्षण सुविधा तथा अनुबंधित होता है जो केवल एक या दो वर्ष विद्यालय से सेवानिवृत्त हो जाता हैं। इस प्रकार स्मार्ट कक्षा-कक्ष के संचालन में विद्यालय को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा हैइस प्रकार हम देखते हैं कि स्मार्ट कक्षा सीखने के साधनों की योजना तथा व्यवस्था के लिए एक आवश्यक आधार प्रदान करता है। स्मार्ट कक्षा शैक्षिक उद्देश्यों, पाठ्यवस्तु, विधियों, शिक्षण सामग्री, वातावरण, छात्रों का व्यवहार, अनुदेशन का व्यवहार तथा उनके पारस्पारिक संबंध को अधिक प्रभावशाली बनाता है। प्राचार्य लाल बहादुर शिक्षा महाविद्यालय, 113/114, एस. सी. रोड, शेषाद्रिपुरम बेंगलूर-20 म – 9845432221