अब जो इक हसरत-ए-जवानी है


मीर तकी मीर


अब जो इक हसरत-ए-जवानी है
उम्र-ए-रफ़्ता की ये निशानी है।


ख़ाक थी मौजज़न जहाँ में, और
हम को धोखा ये था के पानी है।


गिरिया हर वक़्त का नहीं बेहेच
दिल में कोई ग़म-ए-निहानी है।


हम क़फ़स ज़ाद क़ैदी हैं वरना
ता चमन परफ़शानी है।


याँ हुए 'मीर' हम बराबर-ए-ख़ाक
वाँ वही नाज़-ओ-सर्गिरानी है।