भारत की जय


चंद्रधर शर्मा गुलेरी


 


हिंदू, जैन, सिख, बौद्ध, क्रिस्ती, मुसलमान
पारसीक, यहूदी और ब्राह्मन
भारत के सब पुत्र, परस्पर रहो मित्र
रखो चित्ते गणना सामान
मिलो सब भारत संतान
एक तन एक प्राण
गाओ भारत का यशोगान


Comments

Popular posts from this blog

हिन्दी नाटकों के माध्यम से पाठ शिक्षण, प्रशिक्षण और समाधान