Monday, November 25, 2019

कुछ कहना ,कुछ सुनना हो,


डॉ साधना गुप्ता


 


कुछ कहना ,कुछ सुनना हो,


मन के सपनों को बुनना हो,

 

दें उतार मुखटो को आज

कर ले स्व से पहचान आज,

मानव-मानव हो एक समान,

 

धर्म रहे मानवतावादी,

कर्म रहे कर्तव्य प्रधान,

शिक्षा दे संस्कार आज 

 

उत्तम हो आचार-विचार 

नर-नारी का भेद न हो 

निर्भय हो  सकल संसार 

 

कुछ कहना ,कुछ सुनना हो, 

मन के सपनों को बुुनना हो ।

        

 

                          

मंगलपुरा, टेक, झालावाड़ 326001 राजस्थान 

No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारतीय परिदृष्य में मीडिया में नारी चित्रण / डाॅ0 गीता वर्मा

  डाॅ0 गीता वर्मा एसोसिऐट प्रोफेसर, संस्कृत विभाग, बरेली कालेज, बरेली।    “नारी तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत नग पग तल में। पीयूशस्त्रोत ...