Monday, November 11, 2019

प्रताप सिंह पुरा (ललयाना) : इक पनछान / डोगरी लेख


शिव कुमार खजुरिया 

तसील विशनाह् दा ग्रांऽ प्रताप सिंह पुरा ललयाना बड़ा गै म्शहूर ग्रांऽ ऐ। एह् जम्मू थमां लगभग 25 किलोमीटर ते विशनाह् थमां 6 किलोमीटर दी दूरी पर बस्से दा ऐ। इत्थूं दी कुल अबादी 663 ऐ ते जमीनी रकवा लगबग 550 धमाऽं ऐ। इत्थूं दे किश लोक मलाज़म न पर, ज्यादातर लोक जीमिदारी ते मजूरी करियै अपनी गुजर-बसर करा दे न। इस ग्रांऽ दे नांऽ बारै गल्ल कीती जा तां एह्दा नांऽ डुग्गर दे प्रसिद्व महाराजा प्रताप सिंह हुंदे नांऽ पर रक्खेआ गेदा ऐ। इस ग्रांऽ च बक्ख-बक्ख जातियें ते धर्में दे लोक आपूं- चें बड़े मेल जोल ते हिरख-समोध कन्नै रौंह्दे न। इत्थै उं'दे बक्खरे बक्खरे धार्मिक स्थान बी हैन। ओह् रोज इत्थै मत्था टेकियै, ग्रांऽ दी खुशहाली आस्तै मंगलकामना करदे न। 
  इस ग्रांऽ दी अपनी इक खास म्ह्ता ऐ। इत्थै भाद्रो म्हीने दी 8 तरीक गी बाबा तंत्र बैद जी दे नां पर बड़ा बड्डा मेला लगदा ऐ ते भंडारे दा आयोजन बी कीता जंदा ऐ। 8 तरीक कोला केईं रोज पैह्लें गै मेले च औने जाने आह्लें लोकें दी चैह्ल पैह्ल शुरू होई जंदी ऐ। इस दिन गुआंडी रियासतें ते आस्सै-पास्सै दे ग्राएं थमां ज्हारें दी गिनतरी च लोक बाबा जी दी समाधी उप्पर मत्था टेकने आस्तै औंदे न। बाबा तंत्र वैद जी जिं'दी समाधी ग्रांऽ च ऐ ओह् बड़े बड्डे संत हे। ओह् सप्प दे डंगने ते त्रिण कंडे दे पिड़ित लोकें दा इलाज करदे हे। उं'दा समां दोआपर युग दा हा। उं'दा आश्रम देह्रादून दे जंगले च हा। आश्रम च रेहियै ओह् पिड़ित लोकें दा इलाज करदे रेह् ओह् बी बगैर किश लैते दित्ते दे। उं'दा एह् कम्म पीढ़ी-दर-पीढ़ी चलदा रेहा। 
  सन् 1957ई॰ दे दरान बाबा हुंदी पीढ़ी दा गै इक बोरिया ग्रांऽ ललयाना च आई बस्सेआ। इत्थै रेहियै ओह् सब्जी दा कम्म करन लगी पेआ। फ्ही उ'न्नै खाल्ली पेदी जमीना उप्पर मरूदें दे बाग लोआए। ओह्दा नांऽ जगत सिंह हां। इस ग्रांऽ गी उन्नै अपनी कर्म भूमी बनाई लेआ। इत्थै बी ओह् सप्प दे डंगे ते त्रिण कंडे दे पीढ़ित लोकें दी सेवा करना शुरू करी दित्ती। इस्सै दरान ग्रांऽ दे गै दो जागत गुलदेव राज ते रामदास उं'दी इस कला थमां बड़े प्रभावत होए। इस विद्या गी सिक्खने आस्तै उ'नें जगत सिंह हुंदे अग्गै आग्रह् कीता। जगत सिंह होरें उं'दे इस आग्रह् गी स्वीकार करियै उ'नें दौंने जागतें गी अपना चेला बनाई लेआ। जगत सिंह होरें चेले गुलदेव राज दे घर बाबा तंत्र वैद दी समाधी दी स्थापना कीती। पर, किश चिरें मगरा विधिवत तरिके कन्नै ग्रांऽ दे बिच्चो-बिच्च खुल्'ली जगह च बाबा जी दी समाधी दी स्थापना करबाई गेई। लगातार सत्त साल कठोर तप करने दे बाद जगत सिंह हुंदे कोला इ'नें दौंने जागतें गी एह्कड़ी विद्या हासल होई। 1968 कोला लेइयै अज्ज अपनी बृद्ध अवस्था च पुज्जने पर बी ज्हारां लोंके दा इलाज करा करदे न। ग्रांऽ दे दौंने मनुक्खें समाज सेवा आस्तै ते अग्गै इस कम्मै गी चलाने लेई ग्रांऽ दे होर जागतें गी बी इस विद्या दा ज्ञान दित्ता जेह्ड़े अज्ज ग्रांऽ च औने आह्ले सप्प दे डंगे ते त्रिण कंडे दे रोगी दा इलाज करदे न। इस ग्रांऽ दी खासियत एह् ऐ जे बाबा जी दे थान उप्पर पुज्जने आह्ला कसरी मनुक्ख कदें खाली हत्थ नेईं गेआ। 
  सप्प डंग दे मनुक्खै दा इलाज करने दा इं'दा अपना गै तरीका ऐ। शरीर दे जिस जगह पर सप्प लड़े दा होंदा ऐ, उत्थै एह् लोक बलेट कन्नै चीरा कराइयै अपने मूंह् कन्नै रोगी दे शरीर चा सारा जैह्र कड्ढी लैंदे न। उस थाह्रै पर बाबा जी दे थानै दा चिट्टा धागा ब'न्नी उड़दे न। ओह्दे बाद त्रै,चार फांडे च गै रोगी ठीक होई जंदा ऐ। पर, केईं बारी जैह्र इ'न्ना तेज होंदा ऐ जे जैह्र कड्ढने आह्ले दे मूंह् गी बी फालके तक पेई जंदे न। पर, एह् अपनी जान दी प्रवाह् कीते बगैर रोगी दा इलाज करदे न।  
 रोगी गी अपनी जान बचाने आस्तै आपंू बी किश परहेज करने पौंदे न। जि'यांः-
''खट्टा, मिट्ठा, दुद्ध¬-देही, अण्डा, मीट-मच्छी, नशा, शराब, तड़के आह्ली चीज, लून नेईं खाना, खट्ट उप्पर नेईं सोना, जि'न्ने तगर रोगी ठीक नेईं होऐ उन्ने तगर बाबे जी दे थान्नै पर मत्था तगर नेईं टेकना।''  
मरीज गी ठीक होने दे बाद सवाऽ मीटर चिट्टा कपड़ा ते इक नारयिल बाबा जी दे थान्नै उप्पर चाढ़ना पौंदा ऐ। बाबे दे चेले गी बी मीट मास शराब ते नशे कोला परहेज रक्खना पौंदा ऐ। जेह्ड़े चेले इ'नें चीजे दा परहेज नेईं करदे उं'दे कोल एह्कड़ी विद्या नेईं रौंह्दी। ग्रांऽ च बाबा जी दी समाधी कोल दिने ते रातीं बक्खरी-बक्खरी शिफ्ट च चेले मजूद रौंह्दे न तां जे औने आह्ले रोगी गी बगैर चिर लाए दे तौले कोला तौले इलाज कीता जाई सकै। इस्सै समाधी पर 1968 भाद्रो म्हीने जी अट्ठ तरीक गी भंडारे दी शुरूआत होई ही जेह्ड़ा अज्ज तगर चला करदा ऐ। भंडारे च मिट्ठे चैल बनाए जंदे न ते इत्थै औने आह्ले हर माह्नू दी आस्था ऐ जेह्डा इस प्रसाद गी चक्खी लैंदा ऐ उसी पूरा साल सप्प-कीड़ा छ्होई गै नेईं सकदा। ग्रांऽ दी इ'यै खासियत ग्रांऽ प्रताप सिंह पुरा (ललयाना) गी डुग्गर दे होरनें ग्राएं शा इक बक्खरी पंछान दोआंदी ऐ। 
सूचकः-
1 नांऽ- विहारी लाल, ग्रांऽ-प्रताप सिंह पुरा, उम्र-90 साल
2 नांऽ- हंस राज,  ग्रांऽ-उ'ऐ, उम्र-60 साल
3 नांऽ-देब राज,  ग्रांऽ-उ'ऐ, उम्र-65 साल
4 नांऽ-नरायन दास,  ग्रांऽ-उ'ऐ, उम्र-70 साल
5 नांऽ-चिमन लाल,  ग्रांऽ-उ'ऐ, उम्र-62 साल
6 नांऽ-मोन राम,  ग्रांऽ-उ'ऐ, उम्र-50 साल
7 नांऽ-गारा राम,  ग्रांऽ-उ'ऐ, उम्र-60 साल
8 नांऽ-दास राम,  ग्रांऽ-उ'ऐ, उम्र-70 साल
9 नांऽ-अमर चंद,  ग्रांऽ-उ'ऐ, उम्र-55 साल


No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारतीय परिदृष्य में मीडिया में नारी चित्रण / डाॅ0 गीता वर्मा

  डाॅ0 गीता वर्मा एसोसिऐट प्रोफेसर, संस्कृत विभाग, बरेली कालेज, बरेली।    “नारी तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत नग पग तल में। पीयूशस्त्रोत ...