संविधान दिवस

 



डॉ साधना गुप्ता


 


संविधान दिवस है आज,करें कुछ चर्चा भारतवर्ष की,


लिखित,लचीला,होकर देता परिवर्तन का अधिकार हमें,

विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का गौरव आज हमें,

कर्तव्य हमारे इसमें हैं,संग अधिकारों के अधिकारी,

खटकी जाती कुछ बातें, करना है उनकी बात अभी,

करते बात समानता की, फिर आरक्षण की क्यों बात उठी, 

सबको समान अवसर दे शिक्षा के, प्रतिभा को मान मिले,

तब होंगे हम समान सभी,इससे खाई बढ़ती जाती

आत्मसम्मान से जीने का अधिकार न इससे मिल पाता

कुंठित प्रतिभा विवश पलायन को, ना देश उन्नति कर पाता ।

 

                        

         मंगलपुरा, टेक, झालावाड़ 326001 

Comments

Popular posts from this blog

हिन्दी नाटकों के माध्यम से पाठ शिक्षण, प्रशिक्षण और समाधान