Monday, December 2, 2019

ढलती उम्र का प्रेम


अर्चना राज


 


ढलती उम्र का प्रेम


कभी बहुत गाढ़ा 
कभी सेब के रस जैसा,


कभी बुरांश 
कभी वोगेनविलिया के फूलों जैसा,


कभी जड़-तने
तो कभी पोखर की मछलियों जैसा,


ढलती उम्र में भी होता है प्रेम !!


 


क़तरा-क़तरा दर्द से साभार 


No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारतीय परिदृष्य में मीडिया में नारी चित्रण / डाॅ0 गीता वर्मा

  डाॅ0 गीता वर्मा एसोसिऐट प्रोफेसर, संस्कृत विभाग, बरेली कालेज, बरेली।    “नारी तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत नग पग तल में। पीयूशस्त्रोत ...