Sunday, February 16, 2020

मुझको मत मरवाय री

 



गीतकार इन्द्रदेव भारती


 



कन्या भ्रूण  की  गुहार का 

ये गीत  'शोधादर्श' पत्रिका  

में प्रकाशित करने के लिये

संपादक श्री अमन  कुमार

त्यागी का हार्दिक आभार।

--------------

मुझको  मत  मरवाय  री ।

--------------

माँ !  मैं  तेरी  सोनचिरैया, 

मुझको  मत  मरवाय  री ।

काली गैया  जान  मुझे  तू,

प्राण - दान दिलवाय री ।

 

हायरी मैया,क्या-क्या दैया

जाने    मुझे   दबोचे   री ।

यहाँ-वहाँ से,जहाँ-तहाँ से,

काटे  है  री,.....नोचे  री ।

सहा न जावे,और तड़पावे

चीख़  निकलती जाय री ।

मुझको.................री ।।

 

यह कटी  री, उँगली मेरी,

कटा अँगूठा जड़  से  री ।

पंजा काटा, घुटना काटा,

टाँग कटी झट धड़ से री ।

माँ लंगड़ी ही,जी लूँगी री,

अब  तो  दे  रुकवाय री ।

मुझको.................री ।।

 

पेट भी  काटा, गुर्दा काटा,

आँत औ दिल झटके में री ।

कटी सुराही, सी गर्दन भी,

पड़े   फेफड़े  फट  के  री ।

नोने - नोने  हाथ  सलोने,

कटे   पड़े   छितराय  री ।

मुझको..................री ।।

 

आँख निकाली कमलकली सी

गुल - गुलाब से  होंठ  कटे ।

नाक कटी री,  तोते - जैसी,

एक-एक करके  कान कटे ।

जीभ कटी वो,माँ कहती जो,

कंठ  रहा......गुंगयाय  री ।

मुझको...................री ।।

 

पसली  तोड़ी, हसली  तोड़ी,

तोड़ी   रीढ़   की   हड्डी  री ।

कान्धे  तोड़े,   कूल्हे   तोड़े,

उड़ी  खुपड़िया  धज्जी री ।

फूट  रहे  रे,  ख़ून  के  धारे,

अंग - अंग   से   हाय  री ।

मुझको...................री ।।

 

पप्पी   लेती,   नहीं  अघाती,

जिसके  मखना  गालों  की ।

आज उसीकी खाल खींचली,

रेशमिया   से    बालों   की ।

उधड़े - उधड़े, माँस लोथड़े,

पड़े  -  पड़े   डकराय  री ।

मुझको....................री ।।

    

गीतकार इंद्रदेव भारती

"भरतीयम"   

ए-3, आदर्श नगर,

नजीबाबाद - 246763

( बिजनौर ) उ.प्र.

मो. 99 27 40 11 11


No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारतीय परिदृष्य में मीडिया में नारी चित्रण / डाॅ0 गीता वर्मा

  डाॅ0 गीता वर्मा एसोसिऐट प्रोफेसर, संस्कृत विभाग, बरेली कालेज, बरेली।    “नारी तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत नग पग तल में। पीयूशस्त्रोत ...