Skip to main content

एक ज़माना था के चमचों की हनक भी ख़ूब थी


 

एक ज़माना था के चमचों की हनक भी ख़ूब थी,

आजकल नेताओं तक की भी पुलिस सुनती नहीं।            

 

एक ज़माने में गलीयों की राजनीति करने वाले चमचे भी थानों में जाकर अपने कुर्ते के कलफ़ से ज़्यादा अकड़ दिखा दिया करते थे, वे सीधे मुख्यमंत्री का आदमी होने का दावा करते थे मगर अब सारा माहौल ही बदल गया कुर्ते का कलफ़ ढीला पड़ गया चमचे कमा कर खा रहे हैं कोई बैटरी वाली रिक्शा चला रहा है कोई केले, चाउमीन,या सेव बेच रहा है।जिस पुलिस को वें हड़का दिया करते थे वही पुलिस अब उन्हें हड़का रही है लठिया रही है।अगर कोई पुराना चमचा,किसी ऐसे पुलिस वाले के हत्ते चढ़ जाता है जिसे उसने हड़काया हो तो वह पुलिस वाला उससे सारा पुराना हिसाब चुकता करता है।इस समय पुराने नेताओं की बहुत दुर्गति हुई पड़ी है।बिना पद के किसी नेता का बहुत ही बुरा हाल है वह तो थाने में जाने ही के नाम से इधर-उधर की बातें करने लगता है।पद वाला नेता भी थानों में जाना नहीं चाहता क्योंकि क्या पता कौन सा अफ़सर कैसा हो ज़रा सी देर में बेइज़्ज़ती हो जाए क्या फ़ायदा।उस ज़माने में जेबकतरों को, उठाईगिरों को,लड़कियों को छेड़ने वालों को नेता तो क्या उसका चमचा तक छुड़ा लिया करता था मगर अब चमचा तो क्या नेता तक नहीं छुड़ा सकता।वो चमचे जो बुलेट पर या बड़ी गाड़ी में बैठ कर दनदनाते फिरते थे, आजकल बुझे-बुझे से फिरते हैं।अभी एक नेता के सपरिवार जेल जाने से तो उसके जैसी सोच के सारे नेताओं को सांप सूंघ गया है।जब से उस नेता ने कहा है कि हमें जेल में पीटा जा रहा है वो भी किसी जेबकतरे की तरह नहीं एक आतंकवादी की तरह तब से तो दिखावे की सियासत करने वाले अपनी गली में पुलिस की जीप की आवाज़ सुन कर ही डरने लगे हैं।जिस नेता के फ़ोन पर ही बड़े-बड़े अफसरों का रातों रात तबादला हो जाता था वह आज आनन्द बक्षी का लिखा यह गाना गा रहा है- 

ऐ खुदा, हर फ़ैसला तेरा मुझे मंजूर है,

सामने तेरे तेरा बंदा बहुत मजबूर है....

निपटी हुई पार्टियों के नेताओं की ऐसी दुर्गति पर उनके चमचे कभी-कभी घड़ियाली आंसू भी बहा दिया करते हैं।अब तो ज़्यादातर निपटी हुई पार्टियों के नेताओं ने अपने-अपने फ़ोन में अजीब से गीतों की कॉलर टोन लगवा रक्खी है, जैसे "दुखी मन मेरे मान मेरा कहना..जहाँ नहीं चैना वहां नहीं रहना"...,"जब दिल ही टूट गया हम जी के क्या करेंगे...।कई तो दल भी बदल चुके हैं उनमें कुछ तो मज़े ले रहे हैं और कुछ अभी भी इज़्ज़त के लिए तरस रहे हैं।एक मुंडन समारोह में निपटी हुई पार्टियों के निपटे हुए नेताओं का मिलन हुआ,वहाँ मदिरा सेवन करते हुए सब अपने-अपने दुखड़े एक दूसरे को सुना रहे थे, जाम के साथ-साथ सभी का दर्द भी छलक रहा था।एक ने कहा यार तुम तो इस बात पर रो रहे हो कि तुम्हें अफ़सर ने नमस्ते नहीं की अबे मुझे देखो जो अफ़सर मेरे आगे पीछे घूमता था उसी ने मुझे बैठने तक को नहीं कहा कसम से बड़ी तौहीन महसूस हुई,जब तक हमारी पार्टी की सरकार नहीं आती सोचता हूँ किसी लोकल मन्त्री का चमचा ही बन जाऊं।एक नेता ने दूसरे के कान में कहा कि सुना है तुम्हारे दोस्त नेता को पुलिस ने थप्पड़ मारा जब वो बिजलीचोरों की हिमायत कर रहा था, इस पर उस नेता ने कहा कि झूठ है ये बात दूसरी पार्टी वाले अफ़वाह फैला रहे हैं,हड़काने और धमकाने की बात तो ठीक है मगर थप्पड़ की बात अफ़वाह है।एक नेता ने कहा यार कब तक हम यह व्यवहार सहन करेंगे,परसों बड़े वाले नेता से छोटे नेता जेल में मिलने गए,जब वें अन्दर गए तब तो तलाशी ली ही गयी मगर जब वे मिलकर बाहर आये तब भी उनकी तलाशी हुई,भला जेल से वें क्या उखाड़ कर ला सकते थे,ऊपर से अन्य कैदियों ने उनसे पानी की ख़राब टोंटियों की शिकायत भी की।एक नेता ने कहा कि अब यह सब सहन नहीं होता सोचता हूँ गांव लौट जाऊं और अपना वही झाड़ फूंक का धन्धा कर लूं,इस पर दूसरे ने कहा कि मुझे भी सिखा देना मैं भी अपने गांव में जाकर यही कर लूंगा, तो नेता ने कहा कि इसमें सीखने जैसा कुछ नहीं है बस किसी भी फ़िल्म को देखकर ड्रेस और मेकअप किये रखना और बाहर बोर्ड पर लिखवा देना "हमारे यहाँ हारे हुए निराशा में डूबे हुए नेताओं की विशेष झाड़-फूंक की जाती है"।

Comments

Popular posts from this blog

अंतर्राष्ट्रीय संचार व्यवस्था और सूचना राजनीति

अवधेश कुमार यादव साभार http://chauthisatta.blogspot.com/2016/01/blog-post_29.html   प्रजातांत्रिक देशों में सत्ता का संचालन संवैधानिक प्रावधानों के तहत होता है। इन्हीं प्रावधानों के अनुरूप नागरिक आचरण करते हैं तथा संचार माध्यम संदेशों का सम्प्रेषण। संचार माध्यमों पर राष्ट्रों की अस्मिता भी निर्भर है, क्योंकि इनमें दो देशों के बीच मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध को बनाने, बनाये रखने और बिगाड़ने की क्षमता होती है। आधुनिक संचार माध्यम तकनीक आधारित है। इस आधार पर सम्पूर्ण विश्व को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है। पहला- उन्नत संचार तकनीक वाले देश, जो सूचना राजनीति के तहत साम्राज्यवाद के विस्तार में लगे हैं, और दूसरा- अल्पविकसित संचार तकनीक वाले देश, जो अपने सीमित संसाधनों के बल पर सूचना राजनीति और साम्राज्यवाद के विरोधी हैं। उपरोक्त विभाजन के आधार पर कहा जा सकता है कि विश्व वर्तमान समय में भी दो गुटों में विभाजित है। यह बात अलग है कि द्वितीय विश्वयुद्ध के तत्काल बाद का विभाजन राजनीतिक था तथा वर्तमान विभाजन संचार तकनीक पर आधारित है। अंतर्राष्ट्रीय संचार : अंतर्राष्ट्रीय संचार की अवधारणा का सम्बन्ध

मणिपुरी कविता: कवयित्रियों की भूमिका

प्रो. देवराज  आधुनिक युग पूर्व मणिपुरी कविता मूलतः धर्म और रहस्यवाद केन्द्रित थी। संपूर्ण प्राचीन और मध्य काल में कवयित्री के रूप में केवल बिंबावती मंजुरी का नामोल्लख किया जा सकता है। उसके विषय में भी यह कहना विवादग्रस्त हो सकता है कि वह वास्तव में कवयित्री कहे जाने लायक है या नहीं ? कारण यह है कि बिंबावती मंजुरी के नाम से कुछ पद मिलते हैं, जिनमें कृष्ण-भक्ति विद्यमान है। इस तत्व को देख कर कुछ लोगों ने उसे 'मणिपुर की मीरा' कहना चाहा है। फिर भी आज तक यह सिद्ध नहीं हो सका है कि उपलब्ध पद बिंबावती मंजुरी के ही हैं। संदेह इसलिए भी है कि स्वयं उसके पिता, तत्कालीन शासक राजर्षि भाग्यचंद्र के नाम से जो कृष्ण भक्ति के पद मिलते हैं उनके विषय में कहा जाता है कि वे किसी अन्य कवि के हैं, जिसने राजभक्ति के आवेश में उन्हें भाग्यचंद्र के नाम कर दिया था। भविष्य में इतिहास लेखकों की खोज से कोई निश्चित परिणाम प्राप्त हो सकता है, फिलहाल यही सोच कर संतोष करना होगा कि मध्य-काल में बिंबावती मंजुरी के नाम से जो पद मिलते हैं, उन्हीं से मणिपुरी कविता के विकास में स्त्रियों की भूमिका के संकेत ग्रहण किए ज

निर्मला पुतुल के काव्य में आदिवासी स्त्री

वंदना गुप्ता                                          समकालीन हिंदी कवयित्रियों में श्रीमती निर्मला पुतुल एक सशक्त हस्ताक्षर हैं। आदिवासी जीवन का यथार्थ चित्रण करती उनकी रचनाएँ सुधीजनों में विशेष लोकप्रिय हैं। नारी उत्पीड़न, शोषण, अज्ञानता, अशिक्षा आदि अनेक विषयों पर उनकी लेखनी चली है। गगन गिल जी का कथन है - ''हमारे होने का यही रहस्यमय पक्ष है। जो हम नहीं हैं, उस न होने का अनुभव हमारे भीतर जाने कहाँ से आ जाता है? .... जख्म देखकर हम काँप क्यों उठते हैं? कौन हमें ठिठका देता है?''1 निर्मला जी के काव्य का अनुशीलन करते हुए मैं भी समाज के उसी जख्म और उसकी अनकही पीड़ा के दर्द से व्याकुल हुई। आदिवासी स्त्रियों की पीड़ा और विकास की रोशनी से सर्वथा अनभिज्ञ, उनके कठोर जीवन की त्रासदी से आहत हुई, ठिठकी और सोचने पर विवश हुई।  समाज द्वारा बनाए गए कारागारों से मुक्त होने तथा समाज में अपनी अस्मिता और अधिकारों के लिए नारी सदैव संघर्षरत रही है। सामाजिक दायित्वों का असह्य भार, अपेक्षाओं का विशाल पर्वत और अभिव्यक्ति का घोर अकाल  नारी की विडंबना बनकर रह गया है। निर्मला जी ने नारी के इसी संघर्ष