Thursday, June 4, 2020

आधी रख,या सारी रख


इन्द्रदेव भारती


 



आधी रख,या सारी रख ।
लेकिन  रिश्तेदारी  रख ।।


छोड़ के  तोड़  नहीं प्यारे,
मोड़ के अपनी यारी रख ।


शब्दों  में  हो  शहद  घुला,
नहीं  ज़बाँ पर आरी रख ।


भले  तेरी   दस्तार   गयी,
तू  सबकी  सरदारी  रख ।


"देव''  नहीं   दुनिया  तेरी,  
पर  तू   दुनियादारी  रख ।



नजीबाबाद(बिजनौर)उ.प्र


No comments:

Post a Comment

Featured Post

भारतीय परिदृष्य में मीडिया में नारी चित्रण / डाॅ0 गीता वर्मा

  डाॅ0 गीता वर्मा एसोसिऐट प्रोफेसर, संस्कृत विभाग, बरेली कालेज, बरेली।    “नारी तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत नग पग तल में। पीयूशस्त्रोत ...