Skip to main content

आठवां स्वर की भूमिका

 राममधारी सिंह ‘‘दिनकर’’


त्यागी ने एक जगह गीत की परिभाषा देते हुए कहा है-

गीत क्या है? सिर्फ़ छंदों में सजाई,

आदमी की शब्दमय तस्वीर ही तो।

लेकिन, आदमी की शब्दमय तस्वीर तो साहित्य मात्र है। इसलिए, गीतों का महत्व मैं एक दूसरी तरह से आंकता हूं। साहित्य का सर्वश्रेष्ठ अंश कवित्व है और कवित्व उपन्यासों से अधिक कविता में और कविताओं में भी सबसे अधिक गीतों में रहता है। गीतों में सिमट कर बैठने वाला कवित्व साहित्य की चरम शक्ति का पर्याय होता है। उपन्यास कुछ सफल और कुछ असफल हो सकते हैं, खंड काव्य और महाकाव्य भी अंशतः सफल और अंशतः असफल हो सकते हैं, किंतु, गीतों में आधी सफलता और आधी असफलता की कल्पना नहीं की जा सकती-गीत या तो पूर्ण रूप से सफल होते हैं अथवा ये होते ही नहीं।

गीतों से जिसे स्वयं आनंद नहीं मिलता, उसे उनका अर्थ समझाकर आनंदित करना बड़ा ही कठिन काम है। कई बार यह कार्य मुझसे नहीं हो पाता। गीतों में ऐसे संकेत होेते हैं जो बहुत दूर तक जाते हैं, उनके भीतर मनोदशाएं होेती हैं, जिनके पीछे अनुभूतियों का विशाल इतिहास पड़ा होता है, और सबसे बढ़कर तो यह कि उनके शब्दों की अदाएं ऐसी होती हैं जो सिर्फ़ देखते बनती हैं, जिनके विषय में बहुत कुछ बोलकर भी कुछ कहा नहीं जा सकता। फूूल पर शबनम चमकती है तो देखने वाली आंखें निहाल हो जाती हैं। मगर, उंगली से छूूकर शबनम को परखनेे की कोशिश मर्कटों का काम है। त्यागी ने ठीक ही कहा है-

‘मन का एक झरोखा खोलो,/ मेरी बात सुनाई देगी।’

अभी हाल में ही, मैंने कहीं लिखा है कि कविता का स्वाद बदलने वाला है, ग़ज़ल, दादरे और ठुमरी का ज़माना बदलने लगा है। ग़ज़ल, दादरे और ठुमरी की विदाई यानी संगीत अलग और कवित्व अलग। मगर ग़ज़ल, दादरे और ठुमरी का ज़माना भले ही लद जाय, गीतों का ज़माना हमेशा बरक़रार रहेगा, क्योंकि भावाविष्ट अवस्था में कवि महाकाव्य नहीं लिखता, वह छोेटा-सा गीत लिख देता है।

और कितने अच्छे होते हैं ये गीत। दर्द की छोटी-सी टीस, मगर पता नहीं, वह कहां से उठती और कहां जाकर विलीन हो जाती है। उमंग का एक मतवाला झोंका जो आता तो बड़ी ही गर्मी से है, मगर सारी वाटिका के भीतर एक सिहरन-सी दौड़ जाती है! किसी नन्हीं उंगली की एक हल्की-सी चोट पड़ती तो एक तार पर है, किंतु जीवन-वीणा के सारे तार एक साथ झनझना उठते हैं।

‘मृत्यु की भाषा कठिन होती बहुत ही,

ज़िंदगी उसका सरलतम व्याकरण है।’

त्यागी की कविताओं पर विचार करते हुए कई बातें ध्यान में आती हैं।

महादेवी और बच्चन ने जो परंपरा चलाई वह जनता की अब भी पसंद है। वही परंपरा नीरज, त्यागी, वीरेन्द्र, राही आदि कवियों के भीतर से अपना प्रसार कर रही है।

बच्चन तक हिंदी गीतों के छंद केवल हिंदी के छंद से लगते थे, अब वेे उर्दूू के पास पहुंच रहे हैं। भाषा भी इन गीतों की हिंदुस्तानी रूप ले रही है। कहां है हिंदी में रिवाइवलिज़्म? यह तो रिवाइवलिज़्म के ठीक विपरीत चलने वाली धारा है।

तीसरी बात यह है कि जिस ज़ोर से प्र्रयोगवादी कवि अपना नूतन प्रयोग कर रहेे हैं, उसी ज़ोर से इस पीढ़ी के अनेक नव कवि गीतों में अपना अंतर उड़ेल रहे हैं। यह ठीक है कि नए आलोेचकों ने अपनी आशा प्रयोगवाद से बांध रखी है, किंतु जनता का प्रेेम आज भी इन गीतों पर ही बरस रहा है।

और त्यागी के गीतों में भी यह प्रमाण मौजूद है कि हिंदी के नए गीत अपने साथ नई भाषा, नए मुुहावरे, नई भंगिमा और नई विच्छित्ति ला रहे हैं। प्रयोगवाद सर्वथा नवीन वृक्ष उगाने के प्रयास में है। हिंदी के नए गीतकार परंपरा की डालों में से नई टहनियों की तरह फूट निकले हैं।

त्यागी के गीत मुझे बहुत पसंद आते हैं। उसके रोने, उसके हंसने, उसके बिदकने और चिढ़ने, यहां तक कि उसके गर्व में भी एक अदा है जो मन को मोेेह लेती है।

Comments

Popular posts from this blog

मणिपुरी कविता: कवयित्रियों की भूमिका

प्रो. देवराज  आधुनिक युग पूर्व मणिपुरी कविता मूलतः धर्म और रहस्यवाद केन्द्रित थी। संपूर्ण प्राचीन और मध्य काल में कवयित्री के रूप में केवल बिंबावती मंजुरी का नामोल्लख किया जा सकता है। उसके विषय में भी यह कहना विवादग्रस्त हो सकता है कि वह वास्तव में कवयित्री कहे जाने लायक है या नहीं ? कारण यह है कि बिंबावती मंजुरी के नाम से कुछ पद मिलते हैं, जिनमें कृष्ण-भक्ति विद्यमान है। इस तत्व को देख कर कुछ लोगों ने उसे 'मणिपुर की मीरा' कहना चाहा है। फिर भी आज तक यह सिद्ध नहीं हो सका है कि उपलब्ध पद बिंबावती मंजुरी के ही हैं। संदेह इसलिए भी है कि स्वयं उसके पिता, तत्कालीन शासक राजर्षि भाग्यचंद्र के नाम से जो कृष्ण भक्ति के पद मिलते हैं उनके विषय में कहा जाता है कि वे किसी अन्य कवि के हैं, जिसने राजभक्ति के आवेश में उन्हें भाग्यचंद्र के नाम कर दिया था। भविष्य में इतिहास लेखकों की खोज से कोई निश्चित परिणाम प्राप्त हो सकता है, फिलहाल यही सोच कर संतोष करना होगा कि मध्य-काल में बिंबावती मंजुरी के नाम से जो पद मिलते हैं, उन्हीं से मणिपुरी कविता के विकास में स्त्रियों की भूमिका के संकेत ग्रहण किए ज

अंतर्राष्ट्रीय संचार व्यवस्था और सूचना राजनीति

अवधेश कुमार यादव साभार http://chauthisatta.blogspot.com/2016/01/blog-post_29.html   प्रजातांत्रिक देशों में सत्ता का संचालन संवैधानिक प्रावधानों के तहत होता है। इन्हीं प्रावधानों के अनुरूप नागरिक आचरण करते हैं तथा संचार माध्यम संदेशों का सम्प्रेषण। संचार माध्यमों पर राष्ट्रों की अस्मिता भी निर्भर है, क्योंकि इनमें दो देशों के बीच मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध को बनाने, बनाये रखने और बिगाड़ने की क्षमता होती है। आधुनिक संचार माध्यम तकनीक आधारित है। इस आधार पर सम्पूर्ण विश्व को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है। पहला- उन्नत संचार तकनीक वाले देश, जो सूचना राजनीति के तहत साम्राज्यवाद के विस्तार में लगे हैं, और दूसरा- अल्पविकसित संचार तकनीक वाले देश, जो अपने सीमित संसाधनों के बल पर सूचना राजनीति और साम्राज्यवाद के विरोधी हैं। उपरोक्त विभाजन के आधार पर कहा जा सकता है कि विश्व वर्तमान समय में भी दो गुटों में विभाजित है। यह बात अलग है कि द्वितीय विश्वयुद्ध के तत्काल बाद का विभाजन राजनीतिक था तथा वर्तमान विभाजन संचार तकनीक पर आधारित है। अंतर्राष्ट्रीय संचार : अंतर्राष्ट्रीय संचार की अवधारणा का सम्बन्ध

निर्मला पुतुल के काव्य में आदिवासी स्त्री

वंदना गुप्ता                                          समकालीन हिंदी कवयित्रियों में श्रीमती निर्मला पुतुल एक सशक्त हस्ताक्षर हैं। आदिवासी जीवन का यथार्थ चित्रण करती उनकी रचनाएँ सुधीजनों में विशेष लोकप्रिय हैं। नारी उत्पीड़न, शोषण, अज्ञानता, अशिक्षा आदि अनेक विषयों पर उनकी लेखनी चली है। गगन गिल जी का कथन है - ''हमारे होने का यही रहस्यमय पक्ष है। जो हम नहीं हैं, उस न होने का अनुभव हमारे भीतर जाने कहाँ से आ जाता है? .... जख्म देखकर हम काँप क्यों उठते हैं? कौन हमें ठिठका देता है?''1 निर्मला जी के काव्य का अनुशीलन करते हुए मैं भी समाज के उसी जख्म और उसकी अनकही पीड़ा के दर्द से व्याकुल हुई। आदिवासी स्त्रियों की पीड़ा और विकास की रोशनी से सर्वथा अनभिज्ञ, उनके कठोर जीवन की त्रासदी से आहत हुई, ठिठकी और सोचने पर विवश हुई।  समाज द्वारा बनाए गए कारागारों से मुक्त होने तथा समाज में अपनी अस्मिता और अधिकारों के लिए नारी सदैव संघर्षरत रही है। सामाजिक दायित्वों का असह्य भार, अपेक्षाओं का विशाल पर्वत और अभिव्यक्ति का घोर अकाल  नारी की विडंबना बनकर रह गया है। निर्मला जी ने नारी के इसी संघर्ष