Skip to main content

धरती पर बढ़ता आबादी का भार !

 विश्व जनसंख्या दिवस 11 जुलाई पर 



डाॅ. श्रीगोपाल नारसन एडवोकेट

34वां विश्व जनसंख्या दिवस दुनियाभर में मनाया जा रहा है। इस दिवस की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा सन 1989 में की गई थी, जिसके बाद सन 1990 में इसे पहली बार वैश्विक स्तर पर 90 से अधिक देशों में जनसंख्या नियंत्रण के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए मनाया गया था।वस्तुतः सन 2011 में दुनिया की आबादी 7 अरब थी, जो इस साल 8 अरब तक पहुंच गयी है। जनसंख्या  वृद्धि इतनी तेजी से हो रही है कि 2030 तक यह संख्या 8.5 अरब तक पहुंचने की संभावना है और अगले 20 सालों में यानि सन 2050 तक यह आंकड़ा  9.7 अरब तक पहुंच सकता है।भारत की अनुमानित जनसंख्या वर्ष 2020 के मध्य में लगभग एक अरब 38 करोड़ लोगों की थी तो वही चीन की जनसंख्या लगभग एक अरब 43 करोड़ लोगों की थी।अप्रैल सन 2023 में संयुक्त राष्ट्र की तरफ से जारी किए गए ताजा आंकड़ों के अनुसार अब भारत चीन को पीछे छोड़कर दुनिया का सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश बना गया है, जहाँ चीन की कुल आबादी 142.57 करोड़ है, तो वहीं भारत की जनसंख्या 142.86 करोड़ पर पहुंच गई है। जुलाई सन 2023 की शुरूआत में सबसे अधिक जनसंख्या वाले टाॅप 10 देशो में चीन - 145 करोड़, भारत - 142 करोड़,अमेरिका - 33 करोड़, इंडोनेशिया - 28 करोड़, पाकिस्तान - 23 करोड़, नाइजीरिया - 22 करोड़,ब्राजील - 21 करोड़,बांग्लादेश - 16 करोड़, रूस - 14 करोड़, मक्सिको - 13 करोड़ है। जनसंख्या वृद्धि का मुख्य कारण मृत्यु दर का कम होना और जन्म दर का तेजी से बढ़ना है। इसके अलावा गर्भनिरोधक दवाओं का कम उपयोग, महिलाओं में साक्षरता की कमी, लिंग असमानता और गरीबी भी आबादी बढ़ने के मुख्य कारणों में से हैं। दुनिया में हर साल औसतन 12 से 14 करोड़ बच्चे पैदा होते हैं। यानि हर एक मिनट में 270 बच्चों का जन्म होता है। 18वीं सदी तक एक महिला औसतन छह बच्चों को जन्म देती थी। 19वीं सदी में इसमें थोड़ी गिरावट आई। सन 1951 के आंकडो के अनुसार एक महिला औसतन पांच बच्चों को जन्म देती थी। लेकिन सन 2021 में यह आंकड़ा 2.5 पर आ गया है।अर्थात अब एक महिला दो या तीन बच्चों को ही जन्म देती है। भारत में 18वीं सदी से लेकर अब तक के आंकड़ों को देखें तो जन्मदर में लगातार गिरावट हुई है। सन 1880 में भारत में जन्मदर 5.95 प्रतिशत थी, जो 1900 में घटकर 5.73 प्रतिशत हो गई। 1950 में जन्मदर 5.9 प्रतिशत थी। आजादी के बाद इसमें जबरदस्त गिरावट हुई। सन 2000 में भारत में जन्मदर घटकर 3.48 प्रतिशत रह गई, जो अब 2.0 प्रतिशत है। यानि बच्चों के पैदा होने की गति में लगातार गिरावट हो रही है।  

तो अब सवाल यह उठता है कि जन्म तेजी से घटने के बावजूद भारत समेत दुनिया की आबादी इतनी तेजी से कैसी बढ़ रही है। दरअसल जब भी आबादी बढ़ने की बात होती है तो हम लोग सिर्फ जन्म दर पर फोकस करते हैं। जबकि आबादी का एक दूसरा पहलु मृत्यु दर में भी समाहित है। मौजूदा समय में हर साल एक हजार लोगों पर करीब 18 बच्चों का जन्म होता है। इसके विपरीत एक हजार की आबादी पर 7.6 लोगों की मौत होती है। मतलब जन्म दर का आंकड़ा मृत्यु दर से दो गुने से भी ज्यादा है।

आर्थिक दृष्टि से भारत चीन से काफी पीछे है। चीन के अर्थव्यवस्था का आकार जहां 17.73 ट्रिलियन डॉलर है वहीं भारत के अर्थव्यवस्था का साइज केवल 3.18 ट्रिलियन डॉलर है। यानि भारतीय अर्थव्यवस्था से चीन की अर्थव्यवस्था पांच गुना बड़ी है। भारत में बेरोजगारी दर 7 फीसदी के करीब है, जबकि चीन में ये दर 5 फीसदी से कम है।

जनसंख्या को लेकर जो रिपोर्ट आई है उसके मुताबिक 25 फीसदी आबादी 15 वर्ष से कम की है, तो 25 फीसदी के करीब आबादी 15 से 25 वर्ष के आयु के बीच है। कुल आबादी में 65 फीसदी लोग 35 साल से कम के हैं। हमारे यहां 10 से 24 वर्ष की आयु की आबादी संख्या 26 फीसदी है जबकि चीन में केवल 18 फीसदी है। तीन दशक पहले जब चीन की अर्थव्यवस्था ने रफ्तार भरना शुरू किया तब उसकी कुल आबादी में से 85 फीसदी आबादी वर्कफोर्स में शामिल थी, जबकि भारत में ये केवल 52 फीसदी लोग ही कामकाजी है। वर्कफोर्स में महिलाओं की भागीदारी भारत में केवल 20 फीसदी है जबकि चीन में 61 फीसदी और ग्लोबल स्तर इसका औसत 47 फीसदी है।भारत को अपनी बड़ी आबादी को वर्कफोर्स में शामिल करने के लिए बेहद कौशल विकास पर जोर देना होगा। हालांकि भारत की बड़ी आबादी भारत को आर्थिक महाशक्ति बनाने की क्षमता रखती है।भारत दुनिया की पांचवी बड़ी अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्य लेकर चल रहा है। फिर भी भारत के सामने बड़ी समस्या है तेजी से वर्कफोर्स में शामिल हो रही युवा आबादी को रोजगार मुहैया कराने की है। इन युवाओं की डिग्रियां ही उनके रोजगार पाने की हसरत में रोड़ा बन रही है। सबसे बड़ी समस्या योग्य लोगों की कमी को लेकर है। रोजगार के मौके हैं, कंपनियों को जरूरत भी है, लेकिन काॅरपोरेट जगत को बेहतर स्किल्ड लोग नहीं मिल पा रहे हैं।

देश में करोड़ों की संख्या में रोजगार के अवसर बढ़ाने होंगे। क्योंकि हर वर्ष लाखों लोग वर्कफोर्स में शामिल होते हैं। रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए निवेश को आकर्षित करना होगा। विशअव बैंक के रिपोर्ट के मुताबिक भारत में इंवेस्टमेंट ग्रोथ 2000 से 2010 के बीच 10.5 फीसदी सालाना दर से बढ़ा था, जो 2011 से 2021 के बीच घटकर 5.7 फीसदी रह गया है। केंद्र सरकार अलग-अलग सेकटरों के लिए जो पीएलआई स्कीम लेकर आई है उससे 60 लाख नए रोजगार के अवसर पैदा हों सकते है,बशर्ते यह योजना धरातल पर उतारी जा सके।

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, सन 2050 में भारत की जनसंख्या 166 करोड़ तक पहुंचने के आसार हैं। इस अवधि में चीन की आबादी घटकर 131 करोड़ होगी। सन 2064 में भारत अपनी जनसंख्या के चरम 169 करोड़ तक पहुंच जाएगा और इसके बाद गिरावट शुरू होगी। वहीं, चीन में सन 2021 से आबादी घटनी शुरू हो गई है। चीन की तुलना में भारत की बढ़ती आबादी नुकसान के बजाए हमारे विकास के लिए फायदेमंद साबित होगी। सन 1950 और सन1960 के दशक में दोनों देशों की प्रजनन दर भी लगभग एक-सी थी। मगर 1980 में चीन ने एक ही बच्चे की नीति सख्ती से लागू कर दी, जिससे वहां प्रजनन दर अप्रत्याशित रूप से कम होने लगी। वहीं, भारत ने भी आजादी के बाद परिवार नियोजन जैसे कार्यक्रम अपनाए, लेकिन इमरजेंसी को छोड़ दें तो व्यापक स्तर पर इसका सकरात्मक असर ही रहा। भारत को प्रजनन दर में कमी लाने में 46 साल लग गए, जबकि चीन ने राजनीतिक माहौल और सख्त आबादी नियंत्रण के तरीकों से यही काम बहुत तेजी से 26 साल में कर लिया। इसी कारण चीन ने जनसंख्या नियंत्रण में सफलता प्राप्त कर ली है और हम अभी उस ओर कदम बढ़ा रहे है।

डॉ श्रीगोपाल नारसन एडवोकेट

पोस्ट बाॅक्स 81, रुड़की, उत्तराखंड

मो.- 9997809955

Comments

Popular posts from this blog

मणिपुरी कविता: कवयित्रियों की भूमिका

प्रो. देवराज  आधुनिक युग पूर्व मणिपुरी कविता मूलतः धर्म और रहस्यवाद केन्द्रित थी। संपूर्ण प्राचीन और मध्य काल में कवयित्री के रूप में केवल बिंबावती मंजुरी का नामोल्लख किया जा सकता है। उसके विषय में भी यह कहना विवादग्रस्त हो सकता है कि वह वास्तव में कवयित्री कहे जाने लायक है या नहीं ? कारण यह है कि बिंबावती मंजुरी के नाम से कुछ पद मिलते हैं, जिनमें कृष्ण-भक्ति विद्यमान है। इस तत्व को देख कर कुछ लोगों ने उसे 'मणिपुर की मीरा' कहना चाहा है। फिर भी आज तक यह सिद्ध नहीं हो सका है कि उपलब्ध पद बिंबावती मंजुरी के ही हैं। संदेह इसलिए भी है कि स्वयं उसके पिता, तत्कालीन शासक राजर्षि भाग्यचंद्र के नाम से जो कृष्ण भक्ति के पद मिलते हैं उनके विषय में कहा जाता है कि वे किसी अन्य कवि के हैं, जिसने राजभक्ति के आवेश में उन्हें भाग्यचंद्र के नाम कर दिया था। भविष्य में इतिहास लेखकों की खोज से कोई निश्चित परिणाम प्राप्त हो सकता है, फिलहाल यही सोच कर संतोष करना होगा कि मध्य-काल में बिंबावती मंजुरी के नाम से जो पद मिलते हैं, उन्हीं से मणिपुरी कविता के विकास में स्त्रियों की भूमिका के संकेत ग्रहण किए ज

अंतर्राष्ट्रीय संचार व्यवस्था और सूचना राजनीति

अवधेश कुमार यादव साभार http://chauthisatta.blogspot.com/2016/01/blog-post_29.html   प्रजातांत्रिक देशों में सत्ता का संचालन संवैधानिक प्रावधानों के तहत होता है। इन्हीं प्रावधानों के अनुरूप नागरिक आचरण करते हैं तथा संचार माध्यम संदेशों का सम्प्रेषण। संचार माध्यमों पर राष्ट्रों की अस्मिता भी निर्भर है, क्योंकि इनमें दो देशों के बीच मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध को बनाने, बनाये रखने और बिगाड़ने की क्षमता होती है। आधुनिक संचार माध्यम तकनीक आधारित है। इस आधार पर सम्पूर्ण विश्व को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है। पहला- उन्नत संचार तकनीक वाले देश, जो सूचना राजनीति के तहत साम्राज्यवाद के विस्तार में लगे हैं, और दूसरा- अल्पविकसित संचार तकनीक वाले देश, जो अपने सीमित संसाधनों के बल पर सूचना राजनीति और साम्राज्यवाद के विरोधी हैं। उपरोक्त विभाजन के आधार पर कहा जा सकता है कि विश्व वर्तमान समय में भी दो गुटों में विभाजित है। यह बात अलग है कि द्वितीय विश्वयुद्ध के तत्काल बाद का विभाजन राजनीतिक था तथा वर्तमान विभाजन संचार तकनीक पर आधारित है। अंतर्राष्ट्रीय संचार : अंतर्राष्ट्रीय संचार की अवधारणा का सम्बन्ध

निर्मला पुतुल के काव्य में आदिवासी स्त्री

वंदना गुप्ता                                          समकालीन हिंदी कवयित्रियों में श्रीमती निर्मला पुतुल एक सशक्त हस्ताक्षर हैं। आदिवासी जीवन का यथार्थ चित्रण करती उनकी रचनाएँ सुधीजनों में विशेष लोकप्रिय हैं। नारी उत्पीड़न, शोषण, अज्ञानता, अशिक्षा आदि अनेक विषयों पर उनकी लेखनी चली है। गगन गिल जी का कथन है - ''हमारे होने का यही रहस्यमय पक्ष है। जो हम नहीं हैं, उस न होने का अनुभव हमारे भीतर जाने कहाँ से आ जाता है? .... जख्म देखकर हम काँप क्यों उठते हैं? कौन हमें ठिठका देता है?''1 निर्मला जी के काव्य का अनुशीलन करते हुए मैं भी समाज के उसी जख्म और उसकी अनकही पीड़ा के दर्द से व्याकुल हुई। आदिवासी स्त्रियों की पीड़ा और विकास की रोशनी से सर्वथा अनभिज्ञ, उनके कठोर जीवन की त्रासदी से आहत हुई, ठिठकी और सोचने पर विवश हुई।  समाज द्वारा बनाए गए कारागारों से मुक्त होने तथा समाज में अपनी अस्मिता और अधिकारों के लिए नारी सदैव संघर्षरत रही है। सामाजिक दायित्वों का असह्य भार, अपेक्षाओं का विशाल पर्वत और अभिव्यक्ति का घोर अकाल  नारी की विडंबना बनकर रह गया है। निर्मला जी ने नारी के इसी संघर्ष